Type Here to Get Search Results !

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर जयंती 2022 पर विशेष कविता : संतापों का दौर - प्रो. नामदेव


डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर जयंती 2022 पर विशेष कविता : संतापों का दौर - प्रो. नामदेव

दलित अस्मिता के प्रस्तोता, मानवीय अधिकारों के शिल्पकार, राष्ट्र निर्माता, युग पुरूष महामहिम बाबासाहेब डाॅ.भीमराव अम्बेडकर जी के जन्मोत्सव पर उन्हें कोटि-कोटि अभिवादन।

संतापों का दौर 

भोग रहे थे

जब हम 

सदियों का संताप 

चहुंओर मचा था 

हाहाकार 

कहीं रोदन 

कहीं चित्कार 

कहीं गाली 

कहीं मार 

कहीं चीरहरण 

कहीं अपमान ,

कसूर था इतना 

थे हम पंचम वर्ण, 

तब घंटा -घंटे -घंटी 

पत्थर -माटी - कागज़ 

के रंग-बिरंगे 

ईश्वर ईश्वरियां 

तपे हुए तपस्वी 

ईश्वर दूत - दूतियां 

भव्य ईश्वरीय किताबें 

सब थे 

सब मौन थे 

न्याय की बातें 

तब थीं नहीं 

थी भी तो हम उसमें थे नहीं 

फिर दास को हक कहां 

न्याय की,

अस्तित्व हमारा 

स्वाभिमान हमारा 

कहीं था गायब,

संस्कृति के समंदर में 

घृणित कीड़े थे,

न अभिमान 

न स्वाभिमान 

न सम्मान 

न सम्पत्ति 

न शिक्षा 

न शस्त्र 

थे निहत्थे हम,

नियति हमारी प्राकृतिक 

नहीं थी 

घंटे -घंटी- घड़ियालों 

की संस्कारों 

ने किया था निर्मित ,

संतापों के उस दौर में 

आए तुम,

पंचम वर्णी जन 

को जीने का

हक दिला गए,

नफरतों के दौर में 

समता- प्रेम-बंधुत्व-करूणा 

के थे तुम 

दूत या मसीहा 

बाबा भीम

तुम कहलाए

प्रो. नामदेव

प्रोफेसर, किरोड़ीमल कॉलेज
दिल्ली

बाबा साहेब की 131वीं जयंती पर कोटि कोटि नमन।

ये भी पढ़ें;

गंगा प्रसाद विमल के साहित्य में हाशिए के लोग : डॉ. जयप्रकाश कर्दम

समाज परिवर्तन में दलित साहित्य और साहित्यकारों का योगदान

Also watch and subscribe my youtube channel 👇 Link👇
https://youtube.com/c/DrMullaAdamAli

दलित साहित्य में महिला लेखन : डॉ. सुशीला टाकभौरे

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's