Type Here to Get Search Results !

बच्चों के लिए रचना : दद्दा - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

बच्चों के लिए रचना

👱‍♂️ दद्दा 👱‍♂️

डाक्टर मना किया था मीठा,

दद्दा को था रोग अनूठा,

देख मिठाई लार चुआते,

बिन मीठा सब लगता झूठा।


खीर मुरब्बा घर में बनता,

दद्दा को मीठा ना मिलता,

माँग माँग कर दद्दा हारे,

बिन मीठा घर बैरी लगता।


रात अँधेरी मोटा गद्दा,

नींद न आती जगते दद्दा,

इस कोने से उस कोने तक,

करवट बदल रहे थे दद्दा।


मीठा खाऊँ यह मन करता,

पकड़ न जाऊँ डर भी लगता,

सब सोए थे नींद में गहरी,

बेकाबू मन खूब तड़पता। 


महक लगी दद्दा ललचाया,

उठकर अलमारी तक आया,

लगा खोलने हर डिब्बे को,

दद्दा का मनवा भरमाया। 


चुपके चुपके खोला डिब्बा,

डिब्बे में था गरम मुरब्बा,

जीभ जल गई जैसे खाया, 

गिरा हाथ से उनके डिब्बा।


घर के लोग सभी उठ जागे,

दद्दा जी कमरे मे भागे,

कसम खा रहे कान पकड़ कर,

करेंगें गलती अब न आगे।

अशोक श्रीवास्तव 'कुमुद'

राजरूपपुर, प्रयागराज

ये भी पढ़ें;

अशोक श्रीवास्तव कुमुद की काव्य कृति सोंधी महक से ताटंक छंद पर आधारित रचना - घरेलू स्कूल

Bihari Ke Dohe with Hindi Meaning : बिहारी के 20 प्रसिद्ध दोहे हिन्दी अर्थ सहित

आ. गोविंद शर्मा जी का बाल साहित्य का सफर एवं चुनिंदा कहानियाँ : गोविंद शर्मा

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's