Type Here to Get Search Results !

हिंदी दिवस पर कविता : हिंदी हिंदुस्तान का अंश

हिंदी हिंदुस्तान का अंश

सहती रही अपने ही घर में

निर्वासित होने का दंश। 

दिवस विशेष मना कर कहते, 

हिंदी हिंदुस्तान का अंश। 


रस, अलंकार, छंद करते अलंकृत 

विविध बोलियाँ जिसका परिधान। 

फिर भी परित्यक्ता-सी रहकर 

झेलती रहती समस्त अपमान। 


नित नए रूपों में ढल कर 

हिंदी करती सबको रसरंजित। 

सहज, सरल, वैज्ञानिक लिपि से 

करती सबको यह अभिमंत्रित। 


जितनी प्राच्य जमीं है इसकी 

फ़लक भी उतना ही विस्तृत। 

फिर भी राष्ट्रभाषा बनने से वंचित 

अपने ही घर से विस्थापित। 


क्यों न अनेकता में एकता का 

सार्थक उदाहरण जग को दें। 

सभी भाषाओं को लेकर साथ 

हिंदी को राष्ट्रभाषा का गौरव दें।

डॉ. मंजु रुस्तगी
हिंदी विभागाध्यक्ष(सेवानिवृत्त)
वलियाम्मल कॉलेज फॉर वीमेन
अन्नानगर ईस्ट, चेन्नई

ये भी पढ़ें; हिंदी दिवस पर कविता : एक डोर में सबको जो है बांधती वह हिंदी है

Tags: poem on hindi diwas, hindi diwas kavita, national hindi day 2022, hindi diwas poetry, kavita on hindi diwas, hindi poetry, poetry collection, hindi diwas par kavita hindi mein, hindi poem on hindi diwas.

हिंदी दिवस 2022, हिंदी दिवस पर कविता, हिंदी दिवस पर गीत, हिंदी डे स्पेशल कविता, हिंदी दिवस पोएट्री, हिंदी कविताएं, राष्ट्रीय हिंदी दिवस पर कविता।

hindi diwas status, short poetry video, hindi diwas whatsapp status, hindi day special poetry for childrens, best poem on hindi diwas, poetry for kids, class 7, class 8, class 9 hindi kavita, best poetry by manju rustagi on hindi diwas special 2022, short poetry status in hindi..