Type Here to Get Search Results !

Hindi Short Story : लघुकथा दो किस्त - निधि मानसिंह

Hindi Short Story "Two Installments" written by Nidhi Mansingh  : हिंदी लघु कथा

दो किस्त

    6 महीने से घनश्याम अपनी बीमारी से जूझ रहा था। लेकिन, अब उसकी हिम्मत जवाब दे गई और उसने चारपाई पकड़ ली। गांव के डाक्टर, हकीम, वैद्यों सब ने हाथ खड़े कर दिए। और शहर जाने की सलाह दी। घनश्याम के पास 5बीघा जमीन थी जो उसने दो किस्तों मे, ढाई-ढाई बीघा करके लाखों दुख उठाने के बाद खरीदी थी। लेकिन, बेटी की शादी करने के लिए उसे ढाई बीघा जमीन बेचनी पड़ी। अब उसके पास जो ढाई बीघा जमीन बची थी वो, उसमें ही अपना गुजर-बसर करता था। घनश्याम की यही आखिरी इच्छा थी कि मरने से पहले रतन का ब्याह करके उसकी जमीन उसे सौंपकर आंखें बंद कर ले।

  घनश्याम का बेटा रतन शहर की एक फैक्ट्री में काम करता था। रहने के लिए उसके पास दो तीन चारपाई की कोठडी थी। रतन की मां ने, रतन को पिता की बीमारी का तार लिख भिजवाया। रतन तार मिलते ही अगली गाड़ी से आकर पिता और मां को लेकर शहर आ गया। कई दिनों की मुश्किलों के बाद रतन ने अपने पिता को शहर के बड़े अस्पताल में भर्ती करवा दिया। अस्पताल में ना दवाईयों का इंतजाम ना खाने का और ना रहने का। डाक्टर आते और दवाइयों का पर्चा रतन के हाथ में थमा जाते। आठ दिनों में ही रतन की सारी जमा पूंजी खत्म हो गई और उसके पिता की हालत ठीक होने की जगह और बिगड़ती जा रही थी। रतन को कुछ भी नहीं सूझ रहा था। ऊपर से उसकी मां का रो-रोकर बुरा हाल था। रतन का एक दोस्त उससे मिलने अस्पताल में आया। तो, उसने उसे शहर के एक बड़े डाक्टर के व उसके अस्पताल के बारे में बताया। रतन तनिक भी देर ना करते हुए अपने पिता को वहां ले गया। बड़े अस्पताल के डाक्टर ने रतन से कहा कि तुम्हारे पिता का ओपरेशन करना पड़ेगा। और बहुत बड़ा खर्चा होगा। रतन के पास अब कोई पूंजी नही थी सिवाय उस ढाई बीघा जमीन के। उसने अपने पिता का जीवन बचाने के लिए वो बची हुई ढाई बीघा जमीन भी बेच दी। डाक्टर ने घनश्याम का ओपरेशन किया और उसको बचा लिया। घनश्याम ने रतन से पूछा - मेरे ओपरेशन के लिए इतना रुपया कहाँ से लाए? जब रतन ने पिता से ढाई बीघा जमीन बेचने की बात कहीं। जमीन बिकने का सदमा घनश्याम बर्दाश्त नहीं कर पाया और चल बसा। रतन दोनों हाथों से सिर पकडकर एकदम खामोश दीवार से सटकर बैठ गया। उसकी मां जोर-जोर से छाती पीटकर रो रही थी रतन की आंखों में आंसू थे और वो यही सोच रहा था कि पिता जी ने अपने जीते जी 5बीघा जमीन दो किस्तों मे खरीदी थी और उनके मरने से पहले ही ये जमीन दो किस्तों में बिक गई।

निधि "मानसिंह"
कैथल, हरियाणा
nidhisinghiitr@gmail.com

ये भी पढ़ें; किसानी जीवन का दस्तावेज : गोदान

Tags: Hindi Short Stories, Hindi Laghu Katha, Short Story in Hindi, Hindi Kahani, Hindi heart touching stories, हिंदी कहानियां, लघु कथा हिंदी में, हिंदी लघुकथाएं।