Type Here to Get Search Results !

बच्चों के लिए रचना : शैतान बंदर - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

बच्चों के लिए रचना

🐒 शैतान बंदर 🐒

नटखट बंदर था शैतान

अकड़ू चलता सीना तान

मार झपट्टा करे बवाल

लगता वो आँधी तूफान


बच्चों से छीने सामान

करता वो सबको हलकान

वजह बेवजह करता घात

आफत में थी सबकी जान


मीठा हो या हो नमकीन 

लेता बच्चों से वो छीन

कभी-कभी ले आँखें मींच

लटक पेड़ या बैठ जमीन


बच्चे खाते उससे खार

दुनिया थी उससे बेजार

सभी भगाते उसको रोज

झिड़क झिड़क कर देते मार


खी खी कर दिखलाता दाँत

डरे नहीं ना खाए मात

करे शरारत वो बदमाश

आदत ना बदले बदज़ात


बच्चों ना बनना शैतान

न करना सबको परेशान 

करना तुम सबका सहयोग 

हो पहचाना या अनजान


अशोक श्रीवास्तव 'कुमुद'

राजरूपपुर, प्रयागराज

ये भी पढ़ें;

बच्चों के लिए रचना : भोलू भालू - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

कविता : बसेरे से दूर जाना - शालिनी साहू

वर्तमान सामाजिक हालात की पृष्ठभूमि पर काव्य पाठ - अशोक श्रीवास्तव "कुमुद"

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's