Type Here to Get Search Results !

Kabir Motivational : माला तो कर में फिरैं, जीभ फिरै मुख माहीं - कबीर अमृतवाणी

Kabir Motivational

माला तो कर में फिरैं, जीभ फिरै मुख माहीं : कबीर के दोहे


माला तो कर में फिरैं, जीभ फिरै मुख माहीं।
maala to kar mein phirain, jeebh phirai mukh maaheen.

मनवा तो दहू दिस फिरै, यह तो सुमिरन नाहीं॥
manava to dahoo dis phirai, yah to sumiran naaheen.

माला तो कर में फिरैं, जीभ फिरै मुख माहीं।, maala to kar mein phirain, jeebh phirai mukh maaheen., कबीर साहेब के दोहे, कबीर अमृतवाणी, कबीर के दोहे, कबीर के दोहे सत्य पर, कबीर के दोहे हिंदी में, कबीर के दोहे साखी, कबीर के दोहे कविता, Kabir Motivational, Best of Kabir, life lesson by Sant Kabir Das, कबीर साखी, कबीर दास के दोहे।

ये भी पढ़ें;

कबीर के दोहे और उनके अर्थ : कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल - Kabir Das

Five Characteristics of an Ideal Student: काक चेष्टा, बको ध्यानं

Chanakya Niti: आपका व्यवहार ऐसा होना चाहिए! दुश्मन भी टेक देगा आपके सामने घुटने

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's