Type Here to Get Search Results !

कबीर के दोहे और उनके अर्थ : कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल - Kabir Das

कबीर के दोहे और उनके अर्थ

कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल : kabir amritvani


कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल।
kabeer aisa yahu sansaar hai, jaisa saimbal phool.

दिन दस के व्यौहार में, झूठै रंगि न भूलि॥
din das ke vyauhaar mein, jhoothai rangi na bhooli.

कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल, kabeer aisa yahu sansaar hai, jaisa saimbal phool, कबीर साहेब के दोहे, कबीर अमृतवाणी, कबीर के दोहे, कबीर के दोहे सत्य पर, कबीर के दोहे हिंदी में, कबीर के दोहे साखी, कबीर के दोहे कविता, Kabir Motivational, Best of Kabir, life lesson by Sant Kabir Das, कबीर साखी, कबीर दास के दोहे।

ये भी पढ़ें;

Best of Kabir : यह जिनि जानहु गीत हैं, यह निज ब्रम्ह विचार - कबीर के दोहे

Chanakya Niti: सफलता की ओर ले जाने वाले छह सिद्धांत

VALUE OF TIME: What is value of time in our life?

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's