Type Here to Get Search Results !

Ishq Ghazal by Ashok Srivastava Kumud : हिंदी ग़ज़ल इश्क

कविता कोश में आज आपके समक्ष अशोक श्रीवास्तव "कुमुद" जी द्वारा लिखी गई गजल इश्क (Ishq Ghazal), हिंदी ग़ज़ल इश्क। Ishq Ghazal in Hindi.

इश्क

कुछ सिमटते कुछ सहमते पास दिलवर आ गये।

पास आई मंजिलें जब साथ रहबर आ गये।


इश्क में दुनिया गुलाबी पल गुलाबी हर लगे,

जब गुलाबी इश्क में तन मन डुबोकर आ गये।


ना रहा काबू दिलो पे आस अब रहमो करम,

कर लिया सजदा सनम का जब मचलकर आ गये।


बिन चुभन बिन कसक के ये जिन्दगी थी बेमजा,

दर्द भी मीठा लगे अब जब सितमगर आ गये।


साज साजिन्दे गवैया रौनकें पुरअसर ना,

अब हुई महफ़िल मुकम्मल जब सुख़नवर आ गये।


वो सितमग़र वो सुखनवर बन सनम रहबर लगे,

"कुमुद" कर जीवन हवाले अब रहमग़र आ गये।

अशोक श्रीवास्तव "कुमुद"

राजरूपपुर, प्रयागराज (इलाहाबाद)

ये भी पढ़ें; Stuti Rai Ki Kavita : प्रेम में पड़ना कविता करना है - स्तुति राय

हिंदी ग़ज़ल, गजल संग्रह, कविता कोश, अशोक श्रीवास्तव की गजलें, इश्क शायरी, इश्क ग़ज़ल, हिंदी ग़ज़ल संग्रह, हिंदी शायरी, हिंदी कविता, इश्क कविता, प्रेम पर आधारित ग़ज़ल, प्यार ग़ज़ल, गजल शायरी, हिंदी कविताएं।

Ashok Srivastava Kumud Poetry, Ashok Srivastava Kumud Ghazals, Ashok Srivastava Kumud shayari, Ashok Srivastava Kumud Kavita, Hindi Ghazal by Ashok Srivastava Kumud, Hindi Ghazal Shayari, Best Ghazals in Hindi, Sad Poetry, sad poetry collection, sad shayari hindi, love shayari hindi, hindi poems, hindi kavita, kavita kosh...