Type Here to Get Search Results !

Children's Day 2023 : बाल दिवस कब मनाया जाता है जानिए इतिहास और महत्व

Children's Day 2023 : बाल दिवस Monday, 14 November 2023 Children's Day 2023 in India and World Children's Day 2023

दुनियाभर में बाल दिवस को अलग अलग तारीख पर मनाया जाता हैं। लेकिन, भारत हर वर्ष 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता हैं। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी को बच्चों से बहुत प्रेम था, इसलिए नेहरू जी के जन्मदिन 14 नवंबर को बाल दिवस मनाने का फैसला किया गया। बाल दिवस एक राष्ट्रीय त्यौहार है जो पूरी तरह से बच्चों को समर्पित।


World Children's Day 2023 : बचपन का जश्न मनाने के लिए दुनियाभर में विश्व बाल दिवस को मनाया जाता है। विश्व बाल दिवस प्रति वर्ष नवंबर 20 को मनाया जाता है (November 20 World Children's Day or Universal Children's Day). विश्व के अलग अलग देशों में अलग अलग तारीख पर बाल दिवस मनाया जाता हैं।

बाल दिवस कब मनाया जाता है (Bal Diwas 2023) : भारत में बाल दिवस पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के जन्मदिन पर हर साल 14 नवंबर को मनाया जाता है। पंडित जवाहरलाल नेहरू जी को बच्चों से बहुत प्रेम था, बच्चे उन्हें प्यार से "चाचा नेहरू" कहते थे। जवाहरलाल नेहरु जी का कहना है कि बच्चे देश का भविष्य है, इसलिए बच्चों के समुचित विकास पर ध्यान देना हमारी जिम्मेदारी है। बच्चों के लिए पंडित जवाहरलाल नेहरु ने कई कल्याणकारी योजनाओं का संचालन किया जिसमें बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा और कुपोषण जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए समाज में बच्चों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से बाल दिवस को नेहरू जी के जयंती पर मनाया जाता है। भारत में 1964 से पहले 20 नवंबर को बाल दिवस का आयोजन होता था, पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के निधन के बाद उनके याद में हर साल जवाहरलाल नेहरु जयंती यानी 14 नवंबर को बाल दिवस मनाने लगे।

बाल दिवस क्यों मनाया जाता है : जानिए बाल दिवस का इतिहास और महत्व : बाल दिवस इतिहास को देखा जाए तो 1925 में पहली बार विश्व बाल सम्मेलन में बाल दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा गया था। फिर 1950, जून 1 को बाल दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई, 4 साल बाद यानी 1954 में संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations Organisation - UNO) ने सर्वसम्मति से बाल दिवस मनाने का फैसला लिया, इसके बाद से दुनियाभर में बाल दिवस मनाने की शुरुआत हुई, दुनियाभर में 20 नवंबर को Bal Diwas मनाते हैं, जबकि भारत में 14 नवंबर को Children's day मनाया जाता हैं। 1964 से पहले भारत में भी Bal Divas 20 November को ही मनाया जाता था, 1964 में स्वतंत्रता सेनानी, भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी के निधन के बाद यह फैसला किया गया कि जवाहरलाल नेहरु जी के जन्मदिन पर 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जायेगा।

बाल दिवस का महत्व हिंदी में (Important of Childrens Day in Hindi)

Children's Day 2023 : बचपन एक कोरा कागज जैसा है, सभी के जीवन में बचपन से जुड़े स्मृतियां (Childhood Memories) हमेशा याद रहते हैं। बचपन के दिन वो होते हैं जिसे हम भुला नहीं सकते, वे यादगार पल को जीवन में कभी भी याद करते हैं तो हर वक्त सुकून मिलता है। अक्सर बचपन को याद करके आंखें हमारी नम हो जाती हैं। बचपन की यादों को हम भूल नहीं सकते, चाहकर भी हम उन दिनों को वापस नहीं ला सकते। बचपन (Bachpan) हमारे जीवन का सबसे मासूम और खूबसूरत हिस्सा होता है। धूल मिट्टी में खेलना, शरारतें करना, मां का डांटने के बाद फिर प्यार से मनाना भला यह सब किसे याद नहीं आता। जब हम बच्चे थे तो बड़े होने की जल्दी थी, और आज जब हम बड़े हो गए हैं फिर अब सोचते हैं कि फिर हम बच्चे बने।

बाल दिवस कैसे मनाए : हम सब साथ मिलकर बच्चों के बेहतर भविष्य की पुनर्कल्पना कर सकते हैं और हर दिन को बाल दिवस (Bal Diwas) बना सकते हैं। बाल दिवस पर खासकर स्कूलों में कई प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इसमें सभी बच्चे बड़ी खुशी के साथ भाग लेते हैं। बच्चों में मानसिक और बौद्धिक विकास को बढ़ावा देने के लिए कई खेलों का और कार्यक्रमों का आयोजन होता है। बाल दिवस पर कई प्रतियोगिताएं आयोजित किए जाते हैं, इन सभी प्रतियोगिताओं में बच्चे भाग लेते है, बच्चों को बाल दिवस समारोह में जरूरी किताबें या कपड़े दिए जाते हैं। बाल दिवस भाषण प्रतियोगिता (Children's Day Speech) का आयोजन भी होता है, कई बच्चे बाल दिवस पर भाषण भी देते है, बाल दिवस पर निबंध (Essay on Children's Day) प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है। बाल दिवस के उपलक्ष्य में क्विज प्रतियोगिता (Quiz Competition on Bal Diwas) भी रखा जाता है। बाल दिवस पर बच्चे इस तरह के सभी प्रतियोगिताओं में भाग लेकर अपनी प्रतिभा को दर्शाते हैं।

जवाहरलाल नेहरु जयंती 2023 : Jawaharlal Nehru Jayanti 2023 or Jawaharlal Nehru Birth Anniversary 2023 : भारत के स्वतंत्र सेनानी और आजाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी का जन्म 14 नवंबर, 1889 में ब्रिटिश भारत के इलाहाबाद में एक संपन्न बैरिस्टर परिवार में हुआ था। नेहरू जी के पिता मोतीलाल नेहरू कश्मीर पंडित थे। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के दो बार अध्यक्ष भी थे। माता स्वरूपरानी नेहरु। पंडित जवाहरलाल नेहरु जी  की साल 1916 में शादी हुई, धर्मपत्नी का नाम कमला नेहरू था। नेहरू जी की बेटी का इंदिरागंधी है, जो देश की पहली महिला प्रधानमंत्री। पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत देश की आजादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया। 15 अगस्त 1947 भारत स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में जवाहरलाल नेहरू को चुना गया। भारत देश को प्रधानमंत्री के रूप में नेहरू लंबे समय तक सेवा किया (1947 - 1964)। 27 मई 1964 को नेहरू जी का निधन हुआ। पंडित जवाहरलाल नेहरू को बच्चों के प्रति बहुत प्रेम और लगाव था, इसलिए नेहरू जी के जन्मदिन पर बाल दिवस मनाया जाता है। 1964 से पहले भारत में 20 नवंबर को बाल दिवस मनाते थे, फिर जवाहरलाल नेहरू जी के निधन के बाद यह फैसल लिया गया की नेहरू जयंती 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाए।

बाल दिवस से जुड़ी 5 दिलचस्प बातें :

1. आप सब जानते हैं कि 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है, लेकिन 1964 से पहले भारत में 20 नवंबर को चिल्ड्रन डे मनाया जाता था जो संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा यह दिन (20 November) घोषणा किया गया था।

2. 20 नवंबर की जगह 14 नवंबर को बाल दिवस मनाने का प्रस्ताव भारत की संसद में लाया गया। इसी प्रस्ताव के बाद 20 से 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाने लगा।

3. 1964 से पहले बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था, जब पंडित जवाहरलाल नेहरू जी निधन हुआ तो भारत की संसद में एक प्रस्ताव पर Bal Diwas को नेहरू जी के जन्मदिन 14 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाने लगे।

4. दुनियाभर में ज्यादातर देश 20 नवंबर को ही बाल दिवस (अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस) मनाते हैं। कुछ देश 1 जून को बाल दिवस के रूप में मनाते हैं।

5. दुनिया में ऐसा भी एक देश देश है जहां बाल दिवस नहीं मनाया जाता। ब्रिटन में बाल दिवस नहीं मनाया जाता। 

Children's Day 2023 wishes : बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 


किसकी जयंती पर बाल दिवस मनाया जाता है?

पंडित जवाहर लाल नेहरू जयंती पर बाल दिवस मनाया जाता है। Pandit Jawaharlal Nehru Jayanti or Pandit Jawaharlal Nehru Birth Anniversary also known as Children's Day or Bal Diwas 

चाचा के नाम से किसे जाना जाता है?

चाचा नाम से नेहरू जी जाने जाते हैं। बच्चे उन्हें प्यार से चाचा कहते थे, बच्चों के प्रति नेहरू जी को बहुत लगाव और प्यार था। नेहरू जी बच्चों को देश का भविष्य समझते थे।

पहली बार बाल दिवस कब मनाया गया?

विश्वभर में पहली बार बाल दिवस 1954 में मनाया गया था, हर वर्ष 20 नबंबर को बाल दिवस मनाने की घोषणा की गई।

बाल दिवस 2022 के लिए थीम क्या है? World Children’s Day 2022 Theme?

यूनिसेफ की ओर से 2022 बाल दिवस की थीम हर बच्चे के लिए एक बेहतर भविष्य (A Better Future for Every Child)

बाल दिवस 2023 के थीम क्या है? World Children's Day 2023 Theme?

?

बाल दिवस का रंग?

नीला रंग बच्चों के अधिकारों का प्रतीक है आप बाल दिवस पर नीला रंग कर समर्थन दिखा सकते हैं।

ये भी पढ़ें;

बाल दिवस पर विशेष : बाल कहानी और बाल कविता

Indira Gandhi Quotes in Hindi : इंदिरा गांधी के अनमोल विचार

बाल दिवस 2023, बाल दिवस का इतिहास और महत्व, कब मनाया जाता है विश्व बाल दिवस, बाल दिवस कब है?, अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस 2023, बाल दिवस समारोह 2023, पंडित जवाहरलाल नेहरू जयंती 2023, जवाहर लाल नेहरू जन्मदिन 2023 विशेष, बाल दिवस पर भाषण, बाल दिवस निबंध हिंदी में, बाल दिवस पर विशेष बाल कविता, बाल दिवस पर विशेष बाल कहानी, बाल दिवस की शुभकामनाएं संदेश हिंदी में, बाल दिवस स्टेटस, बाल दिवस पोस्टर, बाल दिवस शायरी, चाचा नेहरू जयंती 2023, बाल दिवस पर भाषण प्रतियोगिता, 14 नवंबर को ही क्यों मनाया जाता है बाल दिवस?, 

Children's Day 2023, Pandit Jawaharlal Nehru Jayanti 2023, Jawaharlal Nehru Birth Anniversary 2023, Children's Day Speech in Hindi, Children's Day Quiz 2023, Children's Day 2023 wishes, childrens day poster making ideas, Children's Day drawing easy step by step, Children's Day Theme, Children's Day Poem, Children's Day Stories, Children's Day Celebrations, Children's Day whatsapp status, Jawaharlal Nehru Quotes on Children's Day 2023, Children's Day SMS Greetings, Children's Day Songs...