Adam Gondvi : मगर ये आँकड़ें झूठे हैं ये दावा किताबी है

Adam Gondvi Hindi Ghazal : Hindi Poetry

अदम गोंडवी की पोटली से निकली ग़ज़ल जो आज पूंजीवादी व्यवस्था को बखूबी बयां करती है....

तुम्हारी फ़ाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है 

मगर ये आँकड़ें झूठे हैं ये दावा किताबी है 


उधर जम्हूरियत ढोल पीटे जा रहे हैं वो 

इधर पर्दे के पीछे बर्बरीयत है नवाबी है 


लगी है होड़-सी देखो अमीरी और ग़रीबी में 

ये पूँजीवाद के ढाँचे की बुनियादी ख़राबी है 


तुम्हारी मेज़ चाँदी की तुम्हारे जाम सोने के 

यहाँ ज़ुम्मन के घर में आज भी फूटी रक़ाबी है।

ये भी पढ़ें; Sarveshwar Dayal Saxena : देश कागज पर बना नक्शा नहीं होता

Adam Gondvi Hindi Poetry

Adam Gondvi Ghazal

Adam Gondvi Hindi Kavita

Hindi Kavita, Kavita Kosh

Tumhari faailon mein gaanv ka mausam gulaabi hai : Adam Gondvi 

Quote by Adam Gondvi

Hindi Ghazals, Short Poetry, Kavita Kosh, अदम गोंडवी की ग़ज़ल, हिंदी ग़ज़ल, कविता कोश, हिंदी कविता।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने