Hindi Ghazal : अधर सिहरते रहे कुछ इधर कुछ उधर - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

Hindi Ghazal "Adhar Siharate Rahe Kuch Idhar kuch udhar" by Ashok Srivastava "Kumud"

कविता कोश में आज आपके समक्ष प्रस्तुत है अशोक श्रीवास्तव कुमुद जी द्वारा रचित हिंदी ग़ज़ल "अधर सिहरते रहे कुछ इधर कुछ उधर"। पढ़े और आनंद लें।

अधर सिहरते रहे कुछ इधर कुछ उधर


अधर सिहरते रहे कुछ इधर कुछ उधर।

जिस्म तड़पते रहे कुछ इधर कुछ उधर।


पास नहीं आ रहे दूर जा ना रहे,

हाथ तरसते रहे कुछ इधर कुछ उधर।


हुस्न अदा से नजर यूँ चुराता रहा,

स्वप्न सँवरते रहे कुछ इधर कुछ उधर। 


आग रह रह कर सुलगे धुआं उठ रहा,

बदन झुलसते रहे कुछ इधर कुछ उधर।


बात दिलों की दिलों में सदा रह गई,

ख्याल उलझते रहे कुछ इधर कुछ उधर।


चैन "कुमुद" को नहीं बेखबर ना सनम,

नैन बरसते रहे कुछ इधर कुछ उधर।

अशोक श्रीवास्तव "कुमुद"

राजरूपपुर, प्रयागराज (इलाहाबाद)

ये भी पढ़ें; Sakoon-E-Dil Hindi Ghazal by Ashok Srivastava Kumud

Tags: Hindi Ghazals, Ashok Srivastava "Kumud", Adhar Siharate Rahe Kuch Idhar Kuch Udhar, Hindi Poetry, Kavita Kosh, Hindi Kavita, Poetry in Hindi, Hindi Shayari...

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने