हिंदी बाल कविता : चिंकी जासूस - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

Hindi Bal Kavita "Chinki Jasoos" by Ashok Srivastava "Kumud"

आज कविता कोश में आपके समक्ष प्रस्तुत है अशोक श्रीवास्तव "कुमुद" जी द्वारा रचित बाल कविता "चिंकी जासूस"। पढ़े और आनंद लें।

चिंकी जासूस

(बच्चों के लिए रचना)


छोटी चिंकी थी फंटूश,

सतर्क सदा हो न मायूस,

अजनबियों पर रखती ध्यान, 

दिखता जब कोई मनहूस। 


पास-पड़ोसी थे कंजूस,

भरे तिजोरी मख्खीचूस, 

चोरों ने जब देखा माल,

चोर ले गये उनको मूस।


ठंडी रात महीना पूस,

देखी चिंकी चोर खड़ूस,

चिंकी पीछे आगे चोर,

चोर न कर पाये महसूस। 


चिंकी देखी चोर का घर,

डायल पुलिस को किया निडर,

पुलिस आ गई भागम-भाग,

घेर लिया फिर चोर का घर।


पकड़ गये सब चोर खड़ूस,

पुलिस निकाली चोर जलूस, 

हर तरफ बस एक ही शोर, 

सजग सदा चिंकी जासूस।

अशोक श्रीवास्तव "कुमुद"

राजरूपपुर, प्रयागराज (इलाहाबाद)

मूसना: चुराना, ठगना

ये भी पढ़ें; अशोक श्रीवास्तव कुमुद की रचना बच्चों के लिए : जलेबी और मिस्टर मैंडोला

Tags: Bal Kavita Chinki Jasoos, Ashok Srivastava Kumud Poetry in Hindi, Children's Poetry, Bal Kavitayen, Hindi Bal Kavita, Kavita Kosh, Poem for Kids, Kids Poem in Hindi, Hindi Kavita, Poetry Community, Poetry Collection, Poetry Lovers, Bal Sahitya, Bal Geet...

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने