Type Here to Get Search Results !

अभागिनी (कविता) : श्रीलेखा के. एन


श्रीलेखा के. एन


मेरी माँ रो रही थी
मेरे भविष्य के बारे में सोचकर !
समाचार पत्र के प्रथम पृष्ठ में
छपी थी एक खबर
माता-पिता और दो बच्चों से युक्त
एक अणु परिवार की त्रासदी |
संयुक्त न होने पर भी
खुशियों से चमक रहे थे सब मुख
प्रेम था,वात्सल्य था और
अपनापन था सबके बीच |
              पर..................
             अचानक एक दिन मार डाला-
             पुत्र ने अपने पिता को |
             संपत्ति चाहिए थी उसे,
             शराब पीना था,मस्त रहना था |
              पिता ने दे दिया था उसे
              सच्ची ज़िंदगी का उपदेश,
              यही मात्र एक गलती थी
              उस बेचारे पिता की |
माँ ने पाला - पोसा और
बड़ा किया,अपने बेटे को-
विदेश भेजा था,पढ़ाई के लिए |
बेटे के भविष्य की उम्मीदें
दे रही थी उसे जीने का सुख
पर...............
अब उस अभागिनी
सो रही है मिट्ठी में |
न अब वह चिन्तित है
या,न दु:खी |
पुत्र ने दे दिया था उसे
मृत्यु का वरदान |
            नन्हीं सी,मासूम सी बहन को भी
           वह साथ लेकर शहर चला
            अब किसी फ्लाट के कमरों में
            उसकी आवाज़ें गूँज रही हैं |
            मासूमियत को लुटानेवाले
            उन बंध कमरों से
            बाहर जा रहे थे,कोई आ रहे थे |
            सबके चेहरों पर खुशियाँ थीं ,
            उसे भोगने की |
                         वह चिल्ला रही थी,
                         आवाज़ दे रही थी |
                         दोहरा रही थी एक ही वाक्य
                         “ अंकिल ने छू लिया था मुझे
                         यहीं,वहीं,सबकहीं | ”
                         क्या हुआ था उसे
                         न वह सच बता सकती थी ।
                         न और कोई समझ सकती थी |
फ्लाट के दूसरे कमरे में भाई ,
पैसा इकट्ठा कर रहा था,शराब के लिए |
 सौ से ज़्यादा पैसे के बीच
वह जी रहा था बहन को बेचकर |
                                    सबेरे इस समाचार ने
                                  गंवा लिया था मेरी नींद को,
                                  क्योंकि........
                                  मेरी माँ रो रही थी ,
                                  आँखें पोंछ रही थी |
                                  इस न्यूज़ को पढ़कर
                                  एक लड़की की माँ होने के नाते ,
                                  वह मन ही मन
                                  अपने आपको कोस रही थी |
श्रीलेखा के. एन
शोध छात्रा,  कोच्चिन विश्वविद्यालय, केरल