Type Here to Get Search Results !

National Youth Day 2022; राष्ट्रीय युवा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय युवा दिवस 2022; (स्वामी विवेकानंद जन्म दिवस)

National Youth Day 2022

12 जनवरी को भारत के महान दार्शनिक, आध्यात्मिक और सामाजिक नेताओं में से एक स्वामी विवेकानंद की जयंती के दिन राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) मनाया जाता है। युवा किसी भी देश का भविष्य हैं। देश की युवा पीढ़ी को सही मार्गदर्शन मिल सके, इसलिए हर वर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद के आदर्श और विचार से युवाओं को मार्गदर्शन और प्रेरणा मिलती है।

देश के विकास में युवा पीढ़ी का बहुत बड़ा योगदान होता है। देश के युवाओं को सही मार्गदर्शन मिले, इसलिए हर वर्ष राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। क्या आप जानते हैं कि  विवेकानंद  जयंती के दिन ही "राष्ट्रीय युवा दिवस" क्यों मनाया जाता है?

भारत सरकार ने सन 1984 से 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने का ऐलान किया था। भारत सरकार ने सन 1984 से प्रति वर्ष 12 जनवरी स्वामी विवेकानंद की जयंती को देशभर में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा किया था। स्वामी विवेकानंद देश के महानतम समाज सुधारक, विचारक और दार्शनिक थे। विवेकानंद के आदर्शों और विचारों से देशभर के युवा का मार्गदर्शन हो सकते हैं। स्वामी विवेकानंद के विचारों को जीवन में अपनाकर युवा सफल हो सकते है।

युवा दिवस को मनाने का मुख्य कारण युवा पीढ़ी को ये बताना है कि जिस तरह से विवेकानंद ने अपने जीवन में सफलता हासिल की, उसी तरह उनके विचारों को अपनाकर युवा पीढ़ी भी सफलता हासिल करे।

ये भी पढ़ें; World Hindi Day 2022: 10 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस?

राष्ट्रीय युवा दिवस को देशभर में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन भाषण, युवा सम्मेलन, प्रस्तुतियां, युवाओं के उत्सव, प्रतियोगिताएं, संगोष्ठियों, खेल आयोजन, योग सत्र, संगीत प्रदर्शन आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण से हर वर्ष की तरह होने वाले विभिन्न तरह के कार्यक्रमों का आयोजन शायद नहीं किया जाएगा।

स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी के दिन राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। युवा किसी भी देश का भविष्य हैं। देश की युवा पीढ़ी को सही मार्गदर्शन मिल सके, इसलिए हर साल 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों से देशभर के युवाओं को प्रोत्साहन मिलता है।

सिर्फ 25 साल की उम्र में विवेकानंद संन्यास का ग्रहण किया। संन्यास लेने के बाद इनका नाम विवेकानंद रखा गया। विवेकानंद की मुलाकात गुरु रामकृष्ण परमहंस से 1881 कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर में हुई थी। परमहंस ने विवेकानंद को मंत्र दिया कि सारी मानवता में निहित ईश्वर की सचेतन आराधना ही सेवा है।

ये भी पढ़ें; Makar Sankranti 2022: आलौकिक - आध्यात्मिक अनुदानों का महापर्व - मकर संक्रांति

राष्ट्रीय युवा दिवस की थीम (National Youth Day Theme)

• 2011 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम “सबसे पहले भारत।” (Sabse Pehle Bharat)

• 2012 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम “विविधता में एकता का जश्न।” (Celebrating Diversity In Unity)

• 2013 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम “युवा शक्ति की जागरुकता।” (Awakening The Youth Power)

• 2014 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम “ड्रग्स मुक्त संसार के लिये युवा।” (Youth For Drugs Free World)

• 2015 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम "Youth for Clean, Green and Progressive India" (slogan was “hum se hai nayi shuruaat") यंगमंच और स्वच्छ, हरे और प्रगतिशील भारत के लिये युवा।” (‘हमसे है नयी शुरुआत’)

• 2016 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम “विकास, कौशल और सद्भाव के लिए भारतीय युवा।” (Indian Youth for Development, Skill, and Harmony)

• 2017 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम "डिजिटल इंडिया के लिए युवा" था। (Youth for Digital India)

• 2018 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम "संकल्प से सिद्ध" था। (Sankalp Se Siddhi)

• 2019 का थीम Transforming Education (राष्ट्र निर्माण में युवा शक्ति का इस्तेमाल)

• 2020 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम "वैश्विक कार्य के लिए युवाओं की भागीदारी" (Channelizing Youth Power for Nation Building) था।

• 2021 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम "युवा - उत्साह नए भारत का" था। (Transforming Food Systems: Youth Innovation for Human and Planetary Health)

• 2022 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम अभी नहीं रखा गया है।

FAQ; 

1. 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है?
ज. स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी के दिन राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। युवा किसी भी देश का भविष्य हैं। देश की युवा पीढ़ी को सही मार्गदर्शन मिल सके, इसलिए हर साल 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day) मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों से देशभर के युवाओं को प्रोत्साहन मिलता है।

2. राष्ट्रीय युवा दिवस पहली बार कब मनाया गया है?
ज. भारत सरकार ने सन 1984 से 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने का ऐलान किया था। भारत सरकार ने सन 1985 से प्रति वर्ष 12 जनवरी स्वामी विवेकानंद की जयंती को देशभर में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

3. स्वामी विवेकानंद की जयंती कब मनाते हैं?
ज. 12 जनवरी 1863 को स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ था। इसलिए हर वर्ष 12 जनवरी के दिन ही राष्ट्रीय युवा दिवस भी मनाया जाता है।

4. 2021 में राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए थीम क्या था?
ज. "युवा - उत्साह नए भारत का" था। (Transforming Food Systems: Youth Innovation for Human and Planetary Health)

स्वामी विवेकानंद जीवन परिचय:
वास्तविक नाम : नरेंद्र नाथ दत्त
जन्म : 12 जनवरी 1863
जन्मस्थान : कोलकाता (बंगाल)
पिता : विश्वनाथ दत्त
माता : भुवनेश्वरी देवी
गुरु : रामकृष्ण परमहंस
गुरु माता : शारदा देवी
स्वामी विवेकानंद की रचनाएं : कर्म योग, राज योग, भक्ति योग, ज्ञान योग, माई मास्टर, कोलंबो से अल्मोड़ा के लिए व्याख्यान।
स्वामी विवेकानन्द का निधन : 4 जुलाई, 1902
मृत्यु का स्थान : बेलूर मठ (बंगाल)

स्वामी विवेकानंद के 10 अनमोल वचन (Swami Vivekananda Quotes);
1. Utho, jaago aur tab tak mat ruko jab tak Lakshya prapti na ho jaaye

2. Khud ko Kamjor Samajhna Sabse Bada Paap hai

3. Log Tumhari Stuti Kare ya Ninda, Lakshya Tumhare Upar Krupalu ho ya Na ho, Tumhara Dehant Aaj ho ya Yug mein, Parantu Tum NyayPath se kabhi bhrast na Hona.

4. Satya ko Hajar Tarikon Se bataya ja sakta hai, fir bhi har ek Satya hi hoga


5. Bahari Swabhav keval Andaruni Swabhav ka bada roop hai


6. Brahmand ki saari Shaktiyan pahle se hamari hain. Vo Hum hi Hain Jo Apni Aankhon Par hath rakh lete hain aur fir rote hai ki kitna Andhkar Hain.

7. Vishw ek Vishal Vyayamshala hain Jahan Hum Khud ko Majboot banane ke liye aate hai

8. Dil aur Dimag ke Takrav mein Dil ki Suno
 
9. Shakti Jivan hain, Nirbalata Mritu Hain. Vistar Jivan Hain, Sankuchan Mritu Hain. Prem Jivan Hain, Dwesh Mritu Hain.

10. Aakansha, Agnanata aur Asamanata - yah Bandhan ki Trimurtiyan Hain.

ये भी पढ़ें; 


National Youth Day 2022 : January 12 - Swami Vivekananda Birthday