Type Here to Get Search Results !

Veer Kavita by Ramdhari Singh Dinkar: वीर कविता

वीर / रामधारी सिंह "दिनकर"

Veer : Ramdhari Singh Dinkar


सच है, विपत्ति जब आती है,

sach hai, vipatti jab aatee hai,

कायर को ही दहलाती है,

kaayar ko hee dahalaatee hai,

सूरमा नहीं विचलित होते,

soorama nahin vichalit hote,

क्षण एक नहीं धीरज खोते,

kshan ek nahin dheeraj khote ,

विघ्नों को गले लगाते हैं,

vighnon ko gale lagaate hain ,

काँटों में राह बनाते हैं।

kaanton mein raah banaate hain.


मुहँ से न कभी उफ़ कहते हैं,

muhan se na kabhee uf kahate hain,

संकट का चरण न गहते हैं,

sankat ka charan na gahate hain,

जो आ पड़ता सब सहते हैं,

jo aa padata sab sahate hain,

उद्योग-निरत नित रहते हैं,

udyog - nirat nit rahate hain,

शुलों का मूळ नसाते हैं,

shulon ka mool nasaate hain,

बढ़ खुद विपत्ति पर छाते हैं।

badh khud vipatti par chhaate hain.

है कौन विघ्न ऐसा जग में,

hai kaun vighn aisa jag mein,

टिक सके आदमी के मग में?

tik sake aadamee ke mag mein?

ख़म ठोंक ठेलता है जब नर

kham thonk thelata hai jab nar

पर्वत के जाते पाव उखड़,

parvat ke jaate paav ukhad,

मानव जब जोर लगाता है,

maanav jab jor lagaata hai,

पत्थर पानी बन जाता है।

patthar paanee ban jaata hai.


गुन बड़े एक से एक प्रखर,

gun bade ek se ek prakhar,

हैं छिपे मानवों के भितर,

hain chhipe maanavon ke bhitar,

मेंहदी में जैसी लाली हो,

menhadee mein jaisee laalee ho,

वर्तिका-बीच उजियाली हो,

vartika-beech ujiyaalee ho,

बत्ती जो नहीं जलाता है,

battee jo nahin jalaata hai,

रोशनी नहीं वह पाता है।

roshanee nahin vah paata hai.

ये भी पढ़ें;

* Pushp Ki Abhilasha by Makhanlal Chaturvedi: पुष्प की अभिलाषा

* Story of an Eagle : बदलाव से डरो मत

* Chanakya Niti: सफलता की ओर ले जाने वाले छह सिद्धांत