Type Here to Get Search Results !

Tulsidas Ke Dohe: तुलसी काया खेत है मनसा भयौ किसान

Tulsidas Ke Dohe: तुलसी काया खेत है मनसा भयौ किसान : स्तुति राय (स्वर)

‘तुलसी’ काया खेत है, मनसा भयौ किसान।

‘tulsi’ kaya khet hai, manasa bhayau kisan. 

पाप-पुन्य दोउ बीज हैं, बुवै सो लुनै निदान॥

paap-puny dou beej hain, buvai so lunai nidaan.

तुलसी के दोहे, तुलसीदास के पद, तुलसीदास के दोहे, तुलसीदास के गाना, तुलसीदास के भजन, तुलसीदास के बिरहा, तुलसीदास के दोहे हिंदी में, तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित, Best of Tulsidas, Tulsidas ke Pad Class 12 in Hindi, Tulsi Kaya Khet Hai, हिंदी दोहे, hindi dohe, youtube shorts.

ये भी पढ़ें;

तुलसीदास के दोहे: आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह - Tulsidas

तुलसीदास की हस्तलिपि में लिखा पंचनामा

Kabir Das : कबीर का सार्थक चिंतन