Type Here to Get Search Results !

Nidhi Mansingh Ghazal in Hindi : अरमान

Nidhi Mansingh Ghazal in Hindi : कविता कोश में आज हम आपके लिए निधि 'मानसिंह' की हिंदी ग़ज़ल "अरमान" पेश कर रहे हैं। गजल को पढ़े और आनंद लें।

अरमान

न जाने क्यूँ अपने अरमानों को

दिल में दबाकर? 

खुद को जीना सीखाते है हम।


यूँही बेवजह मुस्करा कर,

खुद को बहलाते है हम।


उनसे मिलने की उम्मीद

रहती है हरदम,

ये बात जमाने से छिपाते है हम।


तुम्हारे लिए रातभर जागकर

अपने अल्फाजों को डायरी मे,

सजाते हैं हम।


अपनी तन्हाइयों मे बसाकर

तुम्हारी यादें,

बस! खामोश हो जाते हैं हम


निधि 'मानसिंह'

कैथल, हरियाणा

nidhisinghiitr@gmail.com

ये भी पढ़ें; अशोक श्रीवास्तव कुमुद की ग़ज़ल : धड़कनों के लफ्ज़ बदले जिस्म भी बेदम रहा

Hindi Ghazals, Ghazal Armaan by Nidhi Mansingh, Ghazals in Hindi, Hindi Kavita Kosh, Hindi Kavita, Hindi Kavitayein, Hindi Poetry, Ghazal writer, Ghazals of India, Ghazal songs, Hindi Ghazal Poem, Ghazal writer, Best Ghazals, Ghazal Shayari, Urdu Ghazals, Ghazal Muktak, Muktak Kavya, Kavita Path, Ghazal Nazm, Ghazal in Hindi, Poetry in Hindi, Poetry Lover, Poetry communit.

हिंदी ग़ज़ल, ग़ज़ल संग्रह, ग़ज़ल नज़्म, ग़ज़ल लेखन, हिंदी ग़ज़ल अरमान, निधि मानसिंह की ग़ज़ल, ग़ज़ल पाठ, ग़ज़ल काव्य, ग़ज़ल संध्या, गज़ल आजकल, गज़ल शायरी, हिंदी शायरी, शायरी हिंदी में, हिंदी में शायरी, हिंदी कविता, कविता कोश, कविता संग्रह, कविता पाठ, कविताएं हिंदी।