Type Here to Get Search Results !

Poem on Gandhi Jayanti in Hindi : अहिंसक क्रांति के अग्रदूत

Poem on Gandhi Jayanti 2023 in Hindi : अहिंसक क्रांति के अग्रदूत

गांधी जयंती 2023 पर विशेष कविता

अहिंसक क्रांति के अग्रदूत

देवदूत या संत कोई थे, सदविचारों की थी आँधी 

सत्पुरुष कलयुग के थे, मोहनदास करमचंद गाँधी। 


साबरमती से चले कदम तो रुके नहीं फिर उनके पाँव, 

नमक कानून का करने विरोध, पहुँचे बापू दांडी गाँव। 


अहिंसक क्रांति के अग्रदूत का यह था पहला पहला चरण 

जिसने सविनय आंदोलन से, जागृत किया जनता का मन। 


तट समुद्र पर लवण हाथ ले, बोले थे तब गाँधी जी---  

नींव हिला रहा हूँ इससे, मैं अंग्रेजों के साम्राज्य की। 


विश्वास जगाया यह जन में, जीत सदा सत्य की होती, 

अहिंसा से बढ़कर दुनिया में, दूजी न कोई शक्ति होती। 


नमक आंदोलन, आग्रह सत्य का, ब्रिटिश कर, को थी एक चुनौती, 

बहा रहे जो स्वेद नून में, हक उनका, गैर की नहीं बपौती। 


ज़मीं हिला दी गोरों की, आंदोलन था यह एक अनोखा, मन में लगी धधकने सबके, सत्य, अहिंसा, शांति की ज्वाला। 


स्वतंत्रता-समर में दांडी मार्च से, संग्राम का सूत्रपात हुआ, 

आजाद भारत के उद्भव का, मन में एक विश्वास जगा। 


लेकिन बापू आज लील गई, राजनीति अपना समृद्ध इतिहास, 

अपने ही अपनों पर कर रहे, देखो स्वार्थ के भीतरघात। 


सत्य की लाठी टूटी है, अहिंसा हुई है रक्तरंजित, 

चिथड़े चिथड़े हुए अमन के, घूम रहा जैसे विक्षिप्त। 


गली-गली दुशासन घूमे, स्त्री गरिमा को लूट रहे, 

पन्नों में इतिहास के बापू, तुम रह गए बस सिमट के। 


तुम्हारे तीनों बंदरों को इंसां ने, ऐसे पाला है, 

मूक,बधिरता और अंधत्व को, आचरण में ढाला है। 


आओ बाबू एक बार फिर, फूँको मंत्र युवकर्णों में, 

ताकि होकर सजग बढें, ढल जाए तुम्हारे आदर्शों में। 


भारत देश में रामराज्य का, स्वप्न तभी लेगा आकार, टूटेगी जब निष्क्रिय निद्रा, विरासत बापू की बने आधार।

डॉ. मंजु रुस्तगी
चेन्नई
9840695994

ये भी पढ़ें; गांधी जयंती 2023 : अहिंसा दिवस पर पढ़िए महात्मा गांधी जी से संबंधित महत्त्वपूर्ण सामग्री

2 अक्टूबर गांधी जयंती और अहिंसा दिवस 2023 पर डॉ. मुल्ला आदम अली ब्लॉग के कविता कोश के अंतर्गत डॉ. मंजु रुस्तगी जी द्वारा आपके लिए यह कविता। कविता पढ़कर आप अपना कॉमेंट लिखें।

आज 2 अक्टूबर देशभर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की जयंती मनाई जाती है। गांधीजी जन्मदिन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व अहिंसा दिवस या अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाते हैं। गांधीजी आजीवन अहिंसा और सत्य के रास्ते पर चलकर अंग्रेजों से हमें आजादी दिलाई। गांधीजी अपने उपदेशों से शांति फैलाई।

short poem on gandhi jayanti 2023, hindi poem on gandhi jayanti, hindi poetry, best hindi poem on gandhi jayanti, poem on mahatma gandhi jayanti 2023, poetry status, gandhi jayanti song status, gandhi jayanti 2023 kavita, hindi kavita gandhiji, bapu ji kavita..

गांधी जयंती कविता, महात्मा गांधी जयंती 2023, हिंदी कविता, कविता कोश, गांधी जयंती पोएट्री, बापू जयंती कविता, हिंदी गीत, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी जयंती पर विशेष कविता, हिंदी कविताएं।