Type Here to Get Search Results !

Ramcharitmanas : रामचरितमानस ग्रंथ किस शैली में लिखा गया है

Ramcharitmanas : रामचरितमानस ग्रंथ किस शैली में लिखा गया है?


Ramcharitmanas : रामचरितमानस ग्रंथ किस शैली में लिखा गया है

अवधी भाषा में 16वीं शताब्दी के भारतीय भक्ति कवि तुलसीदास (1532-1623) द्वारा रचित एक महाकाव्य कविता रामचरितमानस (श्रीरामचरितमानस को तुलसी रामायण भी कहा जाता है)

तुलसी कृत रामचरितमानस से संबंधित महत्त्वपूर्ण प्रश्न यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी साहित्य के अंतर्गत कई बार पूछे जा रहे हैं। Ugc Net Jrf Hindi Sahitya में Ramcharit Manas संबंधी प्रश्न देखने को मिलते हैं।

Ramcharitmanas : रामचरितमानस ग्रंथ किस शैली में लिखा गया है?

A. दोहा शैली

B. बरवै शैली

C. दोहा चौपाई शैली

D. गीती शैली

इसका जवाब है, रामचरितमानस ग्रंथ बरवै शैली में लिखा गया है। इसके लेखक तुलसीदास है। रामचरित मानस को तुलसी रामायण या तुलसीकृत रामायण भी कहा जाता है। तुलसी कृत रामायण की विशेषता अद्वितीय है, भारतीय संस्कृति में रामचरित मानस एक विशेष स्थान रखती है।

रामचरित मानस में तुलसी ने राम को मर्यादा पुरुषोत्तम रूप में वर्णित किया है, आज भी लोग तुसली कृत रामायण को श्रद्धा से पढ़ते है, हिंदी में तुलसी रामायण के बाद कई रामायण लिखे गए फिर तुलसीदास रामायण से प्रसिद्ध नहीं हो पाए।

Ramcharitmanas, is an epic poem, composed by Tulsidas तुलसीदास (Indian bhakti poet - 16th century)

Ramcharitmanas Poem by Tulsidas, रामचरित मानस के रचयिता कौन है?, Shri Ram Charit Manas, Sree Ram Charit Manas, Tulsi Ramayan,  Sri Ram Charit Manas, Sriram Charit Manas, Goswami Tulsidas Ji, Tulsidas Dohe, रामचरित मानस, गोस्वामी तुलसीदास।

ये भी पढ़ें; भारतीय भाषाओं में राम साहित्य की प्रासंगिकता : लोकतंत्र का संदर्भ