Type Here to Get Search Results !

Our School Poem by Faheem Ahmad : अपना स्कूल कविता - फहीम अहमद

Poem "Our School" by Dr. Faheem Ahmad : कविता कोश में आज आपके समक्ष डॉ. फहीम अहमद जी की कविता "अपना स्कूल"। पढ़े और आनंद लें।

अपना स्कूल

जहां उड़ने को मिलते पंख,

जहां सपनों में भरते रंग,

जहां खुशियों की रेलमपेल

जगाती है भरपूर उमंग।

जहां पर क्यारी-क्यारी रोज़ ,

महकते रंग बिरंगे फूल

वही तो है अपना स्कूल।


जहां हम खेलें कूदें रोज़,

जहां बस्ता न लगता बोझ।

जहां टीचरजी आकर हमें,

नए किस्सों की देते डोज़।

चले जब हंसी- खुशी की क्लास

सभी हो जाते हैं मशगूल

वही तो है अपना स्कूल।


जहां बातों की पढ़ें किताब,

खेल में सीखें रोज़ हिसाब।

जहां पर मुस्काए हर एक,

लगे ज्यों ताज़ा खिला गुलाब।

कभी न गुस्सा करतीं मैम,

अगर हो जाती हमसे भूल।

वही तो है अपना स्कूल।


जहां पर बजें ज्ञान के ढोल

अकल के ताले देते खोल।

जहां सच को मिलता सम्मान

झूठ की खुल जाती है पोल।

सोच को मिले जहां विस्तार,

बुद्धि की छंट जाती है धूल

वही तो है अपना स्कूल।

डॉ. फहीम अहमद

असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, हिंदी विभाग,
महात्मा गांधी मेमोरियल पी.जी.कालेज,
सम्भल 244302 (उ.प्र.)
मोबाइल 8896340824
Email drfaheem807@gmail.com

ये भी पढ़ें;

फहीम अहमद की बाल कविता : मंकी मियाँ

अशोक श्रीवास्तव कुमुद की काव्य कृति सोंधी महक से ताटंक छंद पर आधारित रचना - घरेलू स्कूल

My School Poem in Hindi, विद्यालय पर कविता हिंदी में, Hindi Poem for School, Best Poem on School in Hindi, मेरे विद्यालय पर कविता, बच्चों की कविताएं, बाल कविताएं, बच्चों के लिए रचना, कविता संग्रह, कविता कोश, हिंदी कविता, हिंदी बाल कविता, children's poem, children's poetry, kids poem, Kavita Kosh, Hindi Poetry, Hindi Kavita, kids poetry, प्राथमिक विद्यालय पर कविता, प्राथमिक स्कूल कविता, School Par Kavita..