Type Here to Get Search Results !

Financial Planning: अपने घर का बजट तैयार करें

वित्तीय योजना (Financial Planning)

अपने घर का बजट तैयार करें

प्राप्त आय से...आज की जरूरतों को पूरा करते हुए भविष्य के खर्चों का अनुमान लगाना चाहिए..चाहे वह केंद्रीय बजट (Union budget of India) हो या हमारे घर का बजट (Home Budget)। सिद्धांत एक ही है। 1 फरवरी को आम बजट (Aam Budget) पेश हो रहा है. तथ्य यह है कि हम पर प्रभाव प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष है। इस बिंदु पर परिवार को बजट  लिखने की जरूरत है। कमाई को लेकर अनिश्चितता, खासकर कोरोना के बाद। इसलिए, गृह बजट की आवश्यकता और भी अधिक बढ़ गई। और आइए जानें कि इसके लिए क्या करना चाहिए!

आय...व्यय.. (Income and expenditure) आज की जरूरतों को पूरा करते हुए..बजट को भविष्य के खर्चों का अनुमान लगाने के लिए डिजाइन किया जाना चाहिए। अभी हम कितना खर्च कर रहे हैं, इसका सटीक हिसाब होना चाहिए। केंद्रीय बजट का प्रभाव प्रत्येक नागरिक पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पड़ता है। यह दीर्घकालिक विकास की कुंजी है। यही सिद्धांत हमारे घर पर भी लागू होता है। संपत्ति उपलब्ध कराना, बच्चों की उच्च शिक्षा, उनकी शादी.. सेवानिवृत्ति योजना.. इस तरह के दीर्घकालिक लक्ष्य या कार खरीदना.. विदेशी यात्राएं जैसे अल्पकालिक लक्ष्य.. इन सभी को पूरा करने के लिए हमारे पास जो वित्तीय संसाधन हैं, उनका उपयोग कैसे करें. आपके घर का बजट जानने के लिए उपयोगी.!

ये भी पढ़े; Financial Planning : थर्ड वेव का फियर, क्या आपके पास है कोई फाइनेंशियल प्लान?

पारिवारिक विवरण देने से पहले, यह स्पष्ट कर लें कि आपके वित्तीय लक्ष्य क्या हैं। उन्हें एक स्थान पर विस्तार से लिखिए। अल्पकालिक, मध्यम अवधि और दीर्घकालिक लक्ष्यों को अलग-अलग निर्दिष्ट करें। अगर शॉर्ट टर्म का लक्ष्य घर में मनचाही चीजें खरीदना है.. कार जैसी चीजें मीडियम टर्म होंगी. सेवानिवृत्ति योजना.. बच्चों की शिक्षा और विवाह दीर्घकालिक लक्ष्य हैं। एक बार ये स्पष्ट हो जाने के बाद आप समझ जाएंगे कि आपको क्या करना है। बहुत से लोगों के आर्थिक संकट में फंसने का मुख्य कारण.. न जाने कमाए हुए पैसे को कैसे एडजस्ट किया जाए। अगर लक्ष्य सीधा है.. योजना बनाना आसान है। प्रति माह एक निश्चित राशि बचाने के लिए पर्याप्त है .. इसे सहेजना नहीं चाहते हैं। लेकिन, वास्तव में यह एक गलती है .. आप कितना अलग रख रहे हैं .. इसके बजाय आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप अपने लक्ष्य को वास्तविकता में लाने के लिए कितना छिपाते हैं। इसलिए, इच्छित लक्ष्यों को वास्तव में प्राप्त किया जाना चाहिए।

क्या कोई आपातकालीन निधि है?

कब क्या जरूरत पड़े, कहना मुश्किल है। इसलिए, कुछ आपातकालीन निधि सभी के लिए जरूरी है। यह आपके परिवार के बजट में एक उच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। कम से कम 6 महीने के खर्च के लिए पर्याप्त राशि इस कोष में आवंटित की जानी चाहिए

प्रत्याशा में.. (anticipation)

आय और व्यय को लिखना वर्तमान के लिए नहीं है, यह हमारे वित्तीय भविष्य के लिए एक मार्गदर्शक होना चाहिए। क्या हम बजट के अनुसार जा रहे हैं? या नहीं? समय-समय पर समीक्षा की जानी चाहिए। अगर पहले महीने में कोई अंतर है.. पता चल जाएगा। फिर अपना चयन करते समय देखने के लिए यहां कुछ चीजें दी गई हैं।

 * क्या मैंने अपनी आय की सही गणना की है?

* क्या लागत विवरण पर्याप्त हैं?

* क्या परिवार के सदस्यों के खर्चों के सभी विवरणों को ध्यान में रखा गया है?

 *आय और व्यय में क्या अंतर है?

 * क्या आपको विशेषज्ञ सलाह की आवश्यकता है? जानिए ऐसी शंकाओं का जवाब.. तभी आप भविष्य में बिना किसी परेशानी के अपने इच्छित लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं..

आर्थिक समायोजन (economic adjustment)

ज्यादातर लोगों को पैसे की बड़ी गणना पसंद नहीं होती है। सोच समझकर खर्च करना.. खर्च का हिसाब लिखना पसंद नहीं है। एक बार जब पूरा परिवार एक साथ बजट कर लेता है.. ऐसी चीजें नहीं होनी चाहिए। अवश्य ही होना चाहिए। बजट में अव्यवहारिक चीजों को शामिल न करने के लिए सावधान रहें। अगर खर्च आय से अधिक है.. कर्ज नहीं करना चाहिए। यह मत भूलो कि अगर हम पर कर्ज है, तो आर्थिक रूप से हमें जो लक्ष्य हासिल करने हैं, वे दूर हो जाएंगे। आमदनी भले ही कम हो जाए.. ख़र्चे बढ़ भी जाएँ.. समायोजन उसी के अनुसार करना चाहिए. अगर आपका सरप्लस बढ़ता है.. आपको इसे बचत की ओर मोड़ना होगा।

ये भी पढ़े; Get Pre Approved Personal Loan in YONO : SBI में खाता होना अब अधिक फायदेमंद है

* कुछ लोगों की स्थिर आय नहीं होती है। ऐसे लोगों को बजट बनाने में अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। आपको एक अलग खाता खोलना होगा और उसमें सभी आय जमा करनी होगी। उस खाते से जाने के लिए प्रत्येक खर्च की व्यवस्था की जानी चाहिए। जो स्वरोजगार कर रहे हैं .. व्यवसाय खाता, व्यक्तिगत खाता अलग से बनाए रखा जाना चाहिए।

आवश्यकताएँ .. इच्छाएँ ..

हर क़ीमत दो तरह की होती है.. एक ज़रूरी है.. दूसरी है चाहत। कभी-कभी इसे खर्च करने के बाद हमें एहसास होता है कि हमें इसकी आवश्यकता नहीं है। इस तरह की बातों से सावधान रहें। जब हम खुश होते हैं तो उस खुशी को दोगुना करने के लिए खर्च करते हैं.. जब हम दुखी होते हैं तो उससे निकलने के लिए पैसा खर्च करते हैं.. इस तरह हमारी मानसिक स्थिति कभी-कभी हमारे खर्चों को नियंत्रित करती है। हमारे द्वारा रखे गए बजट में क्या आवश्यकताएं हैं और क्या इच्छाएं हैं, इसके बीच अंतर होना चाहिए। इच्छाओं पर कितना खर्च करना है, इसके लिए कुछ बजट आवंटित करें। लेकिन, यह आवश्यकताओं से अधिक नहीं होना चाहिए।

एक-एक रुपया गिनें...

लक्ष्य निर्धारित करने के बाद आपको जो काम करना है... वह है आपके द्वारा कमाए गए प्रत्येक पैसे की गणना करना। आपको यह जानने की जरूरत है कि राजस्व कैसे आ रहा है और यह खर्चों के लिए कैसे जा रहा है। आपका वेतन, अन्य आय .. किराया .. ब्याज .. निवेश पर इनाम .. सभी आय को इस तरह जोड़ें। अंदाजा लगाइए कि एक साल में कितना आएगा। उसके बाद उस मासिक को करने में कितना खर्च आता है? हर तीन महीने, हर छह महीने और साल में एक बार खर्चों को देखें। इनमें चाइल्ड फीस और बीमा पॉलिसी प्रीमियम शामिल हैं। इन्हें मासिक किश्तों में विभाजित किया जाना चाहिए और तदनुसार आवंटन किया जाना चाहिए।

 *परिवार के सदस्यों द्वारा किए गए हर खर्च का हिसाब होना चाहिए। हर दो से तीन महीने में उनकी समीक्षा की जानी चाहिए। इस तथ्य को नजरअंदाज न करें कि वित्तीय नियोजन में खर्चों को नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है।

सबकी स्वीकृति के बाद..

पैसों के संबंध में आप जो भी निर्णय लेते हैं उसका असर परिवार के सभी सदस्यों पर पड़ता है। देश के बजट को मंजूरी देनी है तो संसद के सामने इस पर व्यापक बहस होगी। अधिकांश सदस्यों को इसे अनुमोदित करना होगा। घर पर भी यही सिद्धांत लागू होता है। अपना बजट सभी को बताएं। यदि आवश्यक हो तो परिवर्तन और परिवर्धन करें। इससे परिवार के सभी सदस्यों को स्पष्ट समझ आती है। उन्हें परिस्थितियों के अनुसार समायोजन करने के लिए कहें। तभी आप परिवार के सदस्यों की मदद से आर्थिक सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

ये भी पढ़े;

* Insurance Plans : चिंताओं से बचने के लिए जरूरी हैं ये बीमा पॉलिसियां

* Get Pre Approved Personal Loan in YONO : SBI में खाता होना अब अधिक फायदेमंद है

* Financial Planning : थर्ड वेव का फियर, क्या आपके पास है कोई फाइनेंशियल प्लान?