Type Here to Get Search Results !

World Poetry Day Special Poetry: तुम! रूपसी नभ से उतरी

तुम! रूपसी नभ से उतरी

उर्वशी का रूप श्रृंगार लिये

श्रृद्धा के यौवन से भरी।

ऊषा काल की प्रथम बेला में,

तुम रूपसी नभ से उतरी।


मुख चमके सूरज के समान

काली भौंहे, तिरछे नयना,

कामदेव के लगते बाण।

अधरों पे लाली, मुस्कान भरी

तुम रूपसी नभ से उतरी।


सावन की बदली का लेकर भेष

काली घटा से लहराये केश।

मयूरी सी जब गर्दन हिलती,

पथिक भूले देश - परदेश।

शब्दों में तेरे फूलों की झडी

तुम रूपसी नभ से उतरी।

कर जैसे वीणा के तार

सरगम बजती, गूंजे झनकार।

कटि लहराये बन सर्पणी,

बलखाये जैसे नदियाँ की धार।

पग में घुँघरू की तान बजी

तुम रूपसी नभ से उतरी।


चन्दा को माथे पे सजाकर

तारों की महेंदी है रचाई।

हरियाली की पहन घघरिया,

अम्बर की चुनरी है बनाई।

देवी हो! अप्सरा हो! या कोई परी!

तुम रूपसी नभ से उतरी।

निधि "मानसिंह"

कैथल, हरियाणा

ये भी पढ़ें;

* मेरी कविताएं: निधि मानसिंह

* मेरी अपनी कविताएं : डॉ. मुल्ला आदम अली

* मेरी अपनी कविताएं : नीरू सिंह

* World Poetry Day 2022: जानिए विश्व कविता दिवस का महत्व और इतिहास

खुद की तलाश : Nidhi Mansingh


Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's