Type Here to Get Search Results !

Nindiya Rani Aaja Re Kavita By Poonam Singh: निंदिया रानी

🧚🧚 निंदिया रानी 🧚🧚

निंदिया रानी आ जा रे -आ जा रे

मेरे प्यारे को सुला जा रे 

आंखों में मेरी मीठी निंदिया ला जा रे

निंदिया रानी आ जा रे -आ जा रे

 मेरे प्यारे के रंग बिरंगे सपने सजा जा रे

ठंडी -ठंडी हवा का एक झोंका ले आ जा रे

कोई बहाना निंदिया ना लाना रे 

निंदिया रानी आ जा रे -आ जा रे 

मेरे प्यारे को नाच- नाच सुला जा रे

 अब मान भी जा इठला ना रे 

चाँदनी बन निंदिया आ जा रे -2

निंदिया रानी आ जा रे- आ जा रे 

मेरे प्यारे को फूलों की तरह महका जा रे 

खुशियाँ ही खुशियाँ बरसा जा रे 

परी बनकर निंदिया आ जा रे- आ जा रे 

निंदिया रानी आ जा रे- आ जा रे

 मेरे प्यारे को सुला जा रे

पूनम सिंह

जमुआ, देवघाट, कोरांव,
प्रयागराज, उ. प्र. 212306

ये भी पढ़ें; 

तुलसी साहित्य में प्रकृति सौंदर्य: पूनम सिंह

मेरी अपनी कविताएं : डॉ. मुल्ला आदम अली

My youtube channel link👇 (pls subscribe)
https://youtube.com/c/DrMullaAdamAli

डॉ. विनोद ‘प्रसून’ की कविता अपनी हिन्दी - प्यारी हिन्दी प्रेरणा दास अधिकारी


Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's