Type Here to Get Search Results !

Short Essay On Relationships : रिश्तों पर निबंध और जीवन में रिश्तों का महत्व

Short Essay On Relationship : रिश्तों पर निबंध और जीवन में रिश्तों का महत्व

रिश्ते क्या है (Short Essay On Rishte) रिश्तों पर निबंध :

रिश्ते दो प्रकार के होते है, एक खून के रिश्ते जैसे माता, पिता, भाई, बहन, नाना, नानी, दादा, दादी आदि। दूसरा भावनाओं से जुड़े रिश्ते। कहां जाए तो कभी कभी खून के रिश्तों से बढ़कर भावनाओं से जुड़े रिश्तों का महत्व होता है। कोई भी रिश्ता प्रेम और विश्वास पर आधारित होता है।

हम अच्छे व्यवहार से किसी भी अपरिचित व्यक्ति को भी अपना दोस्त बना सकते हैं। अपने रिश्ते को जोड़ सकते हैं। अगर हम कटु व्यवहार करेंगे तो अपने खुद के रिश्ते यानी खून के रिश्ते भी खराब हो जाते हैं। मेरा कहने का मतलब यह है कि किसी भी रिश्ते में दरार या मतभेद हो, तो बात करके सुलझाना चाहिए। ऐसी कोई भी बात नहीं जो समझाने से समझ सके, हम रिश्तों को खराब नहीं करना चाहते हैं तो दूरियां बनाने से बेहतर है की बात करके समझौता करें।

रिश्तों में एकसास : किसी भी रिश्ते में एहसास होना बहुत जरूरी है। एहसास ही तो दो अजनबियों को एक रिश्ते में बांधकर जीवन बसाने का कारण है। शादी से पहले दो लोग अजनबी होते है, शादी के बाद ये एहसास ही तो उनको एक धागे में पिरोकर रखता है, जिंदगी भर एक दूसरे को जोड़ते रखने का बंधन ही एहसास है।

रिश्तों में अपनापन : रिश्तों में अपनापन होना चाहिए। एक दूसरे के खुशी और गम में साथ दे सके। रिश्तों की अहमियत यहीं से तो पता चलता है की कौन हमारे मुश्किल की घड़ी में साथ दे रहा है, कौन मुश्किल की घड़ी में हमारा साथ छोड़ रहा है। इसलिए किसी भी रिश्ते में अपनापन होना आवश्यक है। हर खुशी और हर गम में एक दूसरे साथ निभाना एक अच्छा रिश्ता कहलाता है।

रिश्तों में समझ : रिश्तों में समझ होना जरूरी है। एक दूसरे को अच्छी तरह समझ सके और समझा सके इस तरह के रिश्ते जीवन भर बनाए रहते है। अगर आप पति है तो पत्नी को, पिता होतो पुत्र को, भाई है तो बहन को इस तरह एक दूसरे को समझना जरूरी मान जाता है। दोस्तो हो या पारिवारिक सदस्य हो उनका हर दर्द, दुख, हर्ष, उदासी इस तरह हर भावनाओं को समझना जरूरी है। रिश्ते तभी स्वास्थ बनते हैं।

रिश्ते कुछ भगवान के बनाए होते तो कुछ हम बनाए हुए है, रिश्ता कोई भी हो उसको दिल से निभाना चाहिए। इस तरह रिश्तों में हर बात को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ रिश्ते बनाए रखना हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक भी है।

rishte kya hai (short essay on relationships) rishte par nibandh :

rishte do prakaar ke hote hai, ek khoon ke rishte jaise maata, pita, bhaee, bahan, naana, nani, dada, dadi aadi. doosara bhavanaon se jude rishte. kahan jae to kabhi kabhi khoon ke rishton se badhakar bhavanaon se jude rishton ka mahatv hota hai. koi bhi rishta prem aur vishwass par aadharit hota hai.

ham achhe vyavahar se kisi bhi aparichit vyakti ko bhi apna dost bana sakate hain. apane rishte ko jod sakte hain. agar ham katu vyavahar karenge to apne khud ke rishte yaani khoon ke rishte bhi kharab ho jaate hain. mera kahane ka matlab yah hai ki kisi bhee rishte mein darar ya matabhed ho, to baat karke sulajhana  chahiye. aisi koi bhi baat nahi jo samajhane se samajh sake, ham rishton ko kharab nahi karna chahate hain to dooriyaan banane se behtar hai ki baat karke samajhauta karen.

rishton mein ehsas : kisee bhi rishte mein ehsaas hona bahut jaruri hai. ehasas hi to do ajanabiyon ko ek rishte mein baandhakar jivan basane ka karan hai. shadi se pahle do log ajnabi hote hai, shadi ke baad ye ehasaas hi to unko ek dhaage mein pirokar rakhta hai, jindagi bhar ek doosare ko jodte rakhane ka bandhan hee ehasaas hai.

rishton mein apnapan : rishton mein apnapan hona chaiye. ek doosre ki khushi aur gam mein saath de sake. rishton ki ahamiyat yahi se to pata chalta hai ki kaun hamare mushkil ke ghadi mein saath de raha hai, kaun mushkil ke ghadi mein hamara saath chhod raha hai. isaliye kisi bhi rishte mein apnapan hona aavashyak hai. har khushi aur har gam mein ek doosre saath nibhana ek achha rishta kahlata hai.

rishton mein samajh : rishton mein samajh hona jaruri hai. ek doosre ko achhi tarah samajh sake aur samajha sake is tarah ke rishte jeevan bhar banae rahte hai. agar aap pati hai to patni ko, pita hoto putr ko, bhai hai to bahan ko is tarah ek doosre ko samjhana jaruri mana jaata hai. dosto ho ya paarivarik sadasya ho unka har dard, dukh, harsh, udasi is tarah har bhavanaon ko samajhna jaruri hai. rishte tabhi swaasth  bante hain.

rishte kuch bhagvan ke banaye hote to kuch hum banaye hue hai, rishta koi bhi ho usko dil se nibhana chahiye. is tarah rishton mein har baat ko dhyan mein rakhte hue swasth rishte banaye rakhna hamaare manasik swasth ke liye bahut labhdayak bhi hai.

रिश्तों पर छोटा सा निबंध इस लेख में रिश्ते का क्या मतलब है?, रिश्ते कितने प्रकार के होते हैं?, रिश्तों से क्या मिलता है?, रिश्ते क्यों जरूरी है?, मनुष्य के लिए रिश्तों का क्या महत्व है?, दुनिया का सबसे मजबूत रिश्ता कौन सा है?, रिश्ते बनाने के लिए क्या करना चाहिए?, दुनिया का सबसे बड़ा रिश्ता क्या है?, रिश्ते में सबसे महत्वपूर्ण क्या है? आदि के बारे में बताया गया है। 

In this article important questions, what is relationship, importance of relationships, types of relationships, relationship essay for students and childrens in hindi, relationship essay on English, short essay on relationships, best speech on relationships..

ये भी पढ़ें; Motivational Lines In Hindi : जंगल जंगल ढूँढ रहा है मृग अपनी कस्तूरी को