अशोक श्रीवास्तव कुमुद की बाल कविता : सर्दी आई

प्रस्तुत है कविता कोश में अशोक श्रीवास्तव 'कुमुद' जी द्वारा बच्चों के लिए लिखी गई रचना "सर्दी आई" (Sardi Aayi)। पढ़े और आनंद लें। Bal Kavita 'Sardi Aayi' by Ashok Srivastava 'Kumud' 

सर्दी आई

(बच्चों के लिए रचना)

सर्दी आई ठंडी लाई

सोये मुन्नी ओढ़ रजाई 

रंग बिरंगे स्वेटर पहने

मम्मी-पापा बहना-भाई 


थर थर काँपे बूढ़ी दादी

ठंडी की वो ना हैं आदी

बैठ धूप में खाना खाते

पहने बाबा सदरी खादी


शीत लहर है ठंडा पानी

आग तापते नाना नानी 

रोज सुनायें सब बच्चों को

परी लोक की नई कहानी 

अशोक श्रीवास्तव "कुमुद"

राजरूपपुर, प्रयागराज (इलाहाबाद)

ये भी पढ़ें;

हिंदी बाल कविता : चिंकी जासूस - अशोक श्रीवास्तव कुमुद

व्यंग्य : गुलाबी चेहरों का कैक्टस शोर

Bal Kavita, Hindi Kavitayein, Hindi Bal Kavita Sardi Aayi, Sardi Par Kavita, Hindi Children's Poetry, Hindi Children's Poem Sardi Aayi, Ashok Srivastava Kumud Bal Kavita Sardi Aayi, सर्दी आई बाल कविता, बच्चों के लिए कविता, सर्दी पर कविता, हिंदी कविता, कविताएं, कविता कोश, कविता संग्रह, हिंदी कविताएं।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने