Type Here to Get Search Results !

Vinod Prasoon ki Kavita Apni Hindi Pyari Hai: अपनी हिंदी प्यारी है

डॉ. विनोद ‘प्रसून’ की कविता अपनी हिन्दी प्यारी है: प्रस्तुति - प्रेरणा दास अधिकारी - कक्षा - 6

अपनी हिन्दी - प्यारी हिन्दी

सरस, सरल मनोहारी है।

saras , saral manohaaree hai.

अपनी हिंदी प्यारी है।।

apanee hindee pyaaree hai ..


मीठे शब्दों वाली है

meethe shabdon vaalee hai

यह फूलों की डाली है

yah phoolon kee daalee hai

भारत की पहचान लगे

bhaarat kee pahachaan lage

हिंदी हिंदुस्तान लगे

hindee hindustaan lage

अद्भुत शान हमारी है।

adbhut shaan hamaaree hai.

अपनी हिंदी प्यारी है।।

apanee hindee pyaaree hai..

कबिरा का आखर ढाई है

kabira ka aakhar dhaee hai

तुलसी की चौपाई है

tulasee kee chaupaee hai

यह भावों की सरिता है

yah bhaavon kee sarita hai

मीठी , मोहक कविता है

meethee, mohak kavita hai

सुरभित है, उजियारी है।

surabhit hai, ujiyaaree hai.

अपनी हिंदी प्यारी है।।

apanee hindee pyaaree hai..


अक्षर रस के छींटे हैं

akshar ras ke chheente hain

शब्द शहद से मीठे हैं

shabd shahad se meethe hain

यह मन में बस जाती है

yah man mein bas jaatee hai

जीवन को महकाती है

jeevan ko mahakaatee hai

खिली -खिली फुलवारी है।

khilee -khilee phulavaaree hai.

अपनी हिंदी प्यारी है।। 

apanee hindee pyaaree hai..

              - डॉ. विनोद ‘प्रसून’ (Dr. Vinod Prasoon)

अपनी हिन्दी - प्यारी हिन्दी : कार्तिक यादव (कक्षा-2) - डॉ. विनोद ‘प्रसून’ की कविता - Hindi Kavita

ये भी पढ़ें;

* Veer Kavita by Ramdhari Singh Dinkar: वीर कविता

* Pushp Ki Abhilasha by Makhanlal Chaturvedi: पुष्प की अभिलाषा

* Pulwama Attack: पुलवामा शहीद दिवस पर एक कविता