Type Here to Get Search Results !

What is Computer in Hindi : कंप्यूटर क्या है? हिंदी में पूरी जानकारी

कंप्यूटर क्या है? What is Computer in Hindi | Types of Computer

About Computer in Hindi: कंप्यूटर एक Electronic machine है।  यह जानकारी के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।  कंप्यूटर शब्द लैटिन भाषा के "computare" शब्द से बना है।  इसका मतलब है Calculation करना।

इसमें तीन मुख्य भाग होते हैं। पहला डेटा ले रहा है जिसे हम Input कहते हैं। दूसरा दिए गए Data को Processing करना है। फिर तीसरा कार्य processed data को Output रूप में प्रदर्शित करना है।

💻

Input Data → Processing → Output Data

इसलिए हम कंप्यूटर को एक उच्च इलेक्ट्रॉनिक उपकरण कहते हैं जो इनपुट के रूप में उपयोगकर्ता से कच्चा डेटा लेता है। यह उस डेटा को एक प्रोग्राम (set of Instruction) के माध्यम से संसाधित करता है और अंतिम परिणाम को Output के रूप में प्रकाशित करता है। यह numerical और non numerical (arithmetic and Logical) calculation को process करता है।

चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) आधुनिक कंप्यूटर के जनक हैं। क्योंकि वह मैकेनिकल कंप्यूटर (Mechanical Computer) बनाने वाले पहले व्यक्ति थे, जिन्हें एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine) के नाम से भी जाना जाता है। इसमें Punch Card की मदद से डेटा शामिल किया जाता है।

कंप्यूटर का मतलब : Computer Meaning in Hindi

आइए अब जानते हैं कंप्यूटर का हिंदी अर्थ। कंप्यूटर शब्द आमतौर पर अंग्रेजी में प्रयोग किया जाता है और हिंदी में कंप्यूटर को "संगणक" कहा जाता है।

Computer = "संगणक"

कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या होता है? : Full Foarm of Computer in Hindi

C – Commonly,
O – Operated,
M – Machine,
P – Particularly,
U – Used for,
T – Technical,
E – Educational,
R – Research.

Common Operating Machine Particularly Used for Technological and Educational Research

ये भी पढ़ें; What is Internet in Hindi: इंटरनेट क्या है? हिंदी में

C = आम तौर पर
O = संचालित
M = मशीन
P = विशेष रूप से
U = प्रयुक्त
T = तकनीकी
E = शिक्षात्मक
R = अनुसंधान

Computer एक ऐसी Electronic machine है जिसका उपयोग आम तौर पर तकनीकी और शिक्षात्मक अनुसंधान के लिए किया जाता है।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया? : Who invented the computer?

 आधुनिक कंप्यूटर का जनक कौन है ? ऐसे कई लोगों ने इस कंप्यूटिंग क्षेत्र में योगदान दिया है। लेकिन इससे परे, चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) बहुत सहायक थे। क्योंकि उन्होंने पहला एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine) 1837 में बनाया था।

इंजन ALU, Basic Flow control और Integrated Memory concept को लागू करता है। तो आज के कंप्यूटर को इसी मॉडल के आधार पर डिजाइन किया गया है। इसलिए उनका योगदान सबसे ज्यादा है। इसलिए चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर का जनक कहा जाता है।

कंप्यूटर की परिभाषा : Definition of Computer

किसी भी modern digital कंप्यूटर में कई घटक होते हैं लेकिन उनमें से कुछ Input device, Output Device, CPU (Central Processing Unit), Mass Storage Device और Memory जैसे बहुत महत्वपूर्ण हैं।

accepts data - Input

processes data - Processing

produces output - Output

stores results - Storage

कंप्यूटर कैसे काम करता है? : How to Work Computer in Hindi

Input (Data): Input एक Input Device का उपयोग करके कंप्यूटर में कच्ची जानकारी डालने का चरण है। यह टेक्स्ट, इमेज या वीडियो हो सकता है।

Process: प्रक्रिया के दौरान डेटा को इनपुट निर्देशों के अनुसार processing किया जाता है। यह विशुद्ध रूप से आंतरिक प्रक्रिया (Internal Process) है।

Output: Output के दौरान पहले से प्रोसेस किया गया data Result फॉर्म में दिखाया जाता है। इस result को हम मेमोरी में सेव भी कर सकते हैं और भविष्य में चाहें तो इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

कंप्यूटर के मुख्य घटक : Parts of Computer in Hindi

यदि आप कभी किसी कंप्यूटर केस को देखेंगे, तो अंदर बहुत छोटे हिस्से दिखाई देते हैं, वे बहुत जटिल लगते हैं, लेकिन वे वास्तव में उतने जटिल नहीं हैं। अब मैं आपको इन भागों के बारे में कुछ जानकारी देता हूँ।

Motherboard

किसी भी कंप्यूटर से जुड़े circuit board को Motherboard कहा जाता है। यह एक पतली प्लेट की तरह दिखता है लेकिन इसमें बहुत सारी वस्तुएं होती हैं। एक्सपेंशन कार्ड कंप्यूटर पर सभी पोर्ट जैसे CPU, Memory, Connectors hard drive और Optical Drive के कनेक्शन के साथ वीडियो और ऑडियो को नियंत्रित करने के लिए काम करता है। जैसा कि आप देख सकते हैं, Motherboard कंप्यूटर के सभी भागों से सीधे जुड़ा हुआ है।

CPU/Processor

क्या आप जानते हैं कि सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) CPU क्या है? यह कंप्यूटर केस के अंदर Motherboard पर दिखाई देता है। इसे कंप्यूटर ब्रेन के नाम से भी जाना जाता है। यह कंप्यूटर की सभी गतिविधियों पर नजर रखता है। प्रोसेसर की स्पीड जितनी ज्यादा होगा, processing उतनी ही तेजी से की जा सकेगी।

ये भी पढ़ें; What is Mouse in Hindi: कंप्यूटर माउस क्या है और माउस का उपयोग कैसे करें

RAM

RAM को हम Random Access Memory के नाम से भी जानते हैं। यह सिस्टम की Short Term Memeory है। जब कंप्यूटर कुछ गणना करता है, तो यह अस्थायी रूप से रैम में सहेजा जाता है। यदि कंप्यूटर बंद हो जाता है, तो यह डेटा भी नष्ट हो जाता है। यदि हम कोई दस्तावेज़ लिख रहे हैं, तो उसे नष्ट होने से बचाने के लिए हमें अपने डेटा को बीच में सेव करना चाहिए, यदि आप डेटा को Data Hard Drive पर  सेव करेंगे, तो यह लंबे समय तक रहेगा।

रैंडम एक्सेस मेमोरी को मेगाबाइट्स (एमबी) या गीगाबाइट्स (जीबी) में मापा जाता है। हमारे पास जितनी अधिक रैम होगी उतना ही बेहतर हैं।

HardDrive

हार्ड ड्राइव (HardDrive) एक घटक है जो सॉफ्टवेयर, दस्तावेजों और फाइलों को स्टोर करता है। इसमें डाटा को लंबे समय तक स्टोर किया जाता है।

Power Supply Unit

Power Supply Unit का कार्य मुख्य बिजली आपूर्ति से बिजली लेना और आवश्यकतानुसार अन्य घटकों को आपूर्ति करना है।

Expansion Card

सभी कंप्यूटरों में Expansion Slots होते हैं ताकि हम भविष्य में Expansion कार्ड जोड़ सकें। उन्हें PCI (Peripheral Components Interconnect) card के रूप में भी जाना जाता है। इन दिनों अधिकांश स्लॉट पहले से ही मदरबोर्ड में निर्मित होते हैं। पुराने कंप्यूटरों को अपडेट करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

  • Video Card
  • Sound Card
  • Bluetooth Card (Adapter)
  • Network Card

कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर : Computer Hardware and Software in

Hardware: Computer hardware वह भौतिक उपकरण है जिसका उपयोग हम अपने कंप्यूटर में करते हैं।

  • Monitor
  • Mouse
  • Keyboard
  • Scanner
  • Printer

ect .. कंप्यूटर को नेविगेट करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सभी हार्डवेयर डिवाइस।

Software: Computer Software कोड का एक संग्रह है जो हार्डवेयर को चलाने के लिए हमारी Machine की हार्ड ड्राइव पर स्थापित होता है।

उदाहरण के लिए: जिस तरह इंटरनेट ब्राउजर में हम वेबसाइट और उस इंटरनेट ब्राउजर पर चलने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम पर जाते हैं। ऐसे सॉफ्टवेयर को हम कहते हैं।

हम कह सकते हैं कि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का एक संयोजन है, दोनों की भूमिकाएँ समान हैं, और दोनों एक साथ काम करते हैं।

कंप्यूटर के प्रकार : Types of Computer in Hindi

जब भी हम कंप्यूटर शब्द सुनते हैं तो हमारे दिमाग में पर्सनल कंप्यूटर की छवि ही आती है। लेकिन मैं आपको बताने जा रहा हूं कि कंप्यूटर कई तरह के होते हैं। वे विभिन्न आकारों में आते हैं। हम उनका उपयोग पैसे निकालने के लिए उपयोग किए जाने वाले ATM, बारकोड को स्कैन करने के लिए स्कैनर और बड़ी गणना करने के लिए कैलकुलेटर का उपयोग करते हैं । ये सभी अलग-अलग तरह के कंप्यूटर हैं।

Desktop

ज्यादातर लोग अपने घरों, स्कूलों और अपने निजी काम के लिए डेस्कटॉप कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं। उन्हें हमारे डेस्क पर रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इनमें मॉनिटर, कीबोर्ड, माउस, कंप्यूटर केस जैसे कई कंपोनेंट्स होते हैं।

Laptop

आपको बैटरी चालित लैपटॉप के बारे में पता होना चाहिए क्योंकि वे अत्यधिक पोर्टेबल होते हैं इसलिए आप उन्हें कहीं भी, कभी भी ले जा सकते हैं।

Tablet

अब बात करते हैं Tablet की, जिसे Handheld कंप्यूटर भी कहा जाता है, क्योंकि इसे हाथ से आसानी से पकड़ा जा सकता है।

ये भी पढ़ें; Blogging कैसे करें : How to Make Money with a Blog in Blogging 2022?

कोई कीबोर्ड और माउस नहीं, टाइपिंग और नेविगेशन के लिए उपयोग की जाने वाली touch Sensitive Screen। उदाहरण- ipad।

Server

सर्वर एक प्रकार का कंप्यूटर है जिसका उपयोग सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए जब हम इंटरनेट पर कोई सर्च करते हैं तो वह सारा कंटेंट सर्वर पर स्टोर हो जाता है।

कंप्यूटर का उपयोग : Uses of Computer in Hindi

1. वैज्ञानिक अनुसंधान : Scientific Research

शोधकर्ताओं ने उनके काम से जुड़ी कैलकुलेशन करना बेहद मुश्किल काम है। अनुसंधान विकास में बहुत समय और ऊर्जा बर्बाद होती है। कभी कभी गलती भी हो जाती है। हालांकि इस क्षेत्र में कंप्यूटर बहुत उपयोगी रहे हैं। इससे अनुसंधान का एक स्तर और कई विकास हुुए हैं। आज, जीव विज्ञान, भौतिकी, रसायन विज्ञान आदि में अनुसंधान के लिए कंप्यूटर का तेजी से उपयोग किया जा रहा है।

2. व्यापार : Business

कंप्यूटर के उपयोग ने व्यावसायिक कार्यों में क्रांतिकारी गति ला दी है। अधिकांश कार्यालयों में आज 80% काम कंप्यूटर से होता है। कंप्यूटर की मदद से कई कार्य जैसे टैंक अकाउंटिंग, व्यक्तिगत जानकारी, अकाउंटिंग, डेटा रिकॉर्ड आदि आसानी से किए जाते हैं। कार्यालय बैठक के बर्तनों को बड़े आसानी से व्यवस्थित किया जा सकता है और तुरंत मुद्रित किया जा सकता है। व्यवसाय से संबंधित अन्य कागजी कार्रवाई कंप्यूटर पर बहुत उपयोगी हो सकती है।

3. बैंकिंग : Banking

कंप्यूटर का उपयोग अब हर बैंक में बहुत आम है। क्योंकि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि बैंक के ग्राहक पिछला एक व्यक्तिगत रिकॉर्ड रखता है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है और भविष्य में कभी भी इससे जानकारी का अनुरोध किया जा सकता है। इसलिए बैंकों में कंप्यूटर का उपयोग अधिक प्रचलित है।

4. दूरसंचार : Telecom

दूरसंचार के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, फाइल शेयरिंग, वेब ब्रॉडकास्टिंग, कॉल सेंटर (conferencing, file sharing, call centers, web broadcasting) आदि के लिए संचार के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। कंप्यूटर का उपयोग हवाई यात्रा, ट्रेन यातायात नियंत्रण, टेलीग्राफ और टेलीफोन जैसे संचालन के लिए भी किया जाता है।

5. परिवहन : Transportation

परिवहन व्यवस्था को सुविधाजनक बनाने में कंप्यूटर बहुत उपयोगी हैं। रेलवे, हवाई जहाज, बसों आदि में टिकट बुक करने के लिए कंप्यूटर बहुत उपयोगी हैं। कंप्यूटर का उपयोग विमान के टेकऑफ़ और लैंडिंग, कार्गो लोडिंग और अनलोडिंग, हवाई यातायात और यातायात से संबंधित अन्य मामलों की निगरानी के लिए किया जाता है। इसके अलावा आज ट्रैफिक सिग्नल को भी कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

6. मेडिकल : Medical

चिकित्सा के क्षेत्र में भी कंप्यूटर का व्यापक रूप से उपयोग किया जा रहा है। कंप्यूटर की सहायता से विभिन्न प्रकार के परीक्षण बहुत जल्दी और बहुत ही उत्तम तरीके से किए जाते हैं। इसलिए कंप्यूटर का उपयोग कई जटिल गतिविधियों में किया जाता है।

ये भी पढ़ें; SBI Debit Card: एसबीआई डेबिट कार्ड खो गया? दो मिनट में ब्लॉक करें!

इसके अलावा, कंप्यूटर का उपयोग कई अन्य क्षेत्रों में किया जाता है जैसे स्टॉक विनियमन और बिक्री, बीमा, प्रबंधन सूचना, इंजीनियरिंग डिजाइन, अंतरिक्ष विज्ञान, पुस्तकालय आदि।

कंप्यूटर के फायदे : Advantages Of Computer in Hindi

1. तेजी से काम करना: (speed)

कंप्यूटर का प्रदर्शन बहुत तेज होता है। यह सेकंड में लाखों बार कैलकुलेट करता है। एक व्यक्ति जो काम एक साल में कर सकता है उसे कंप्यूटर कुछ ही मिनटों में कर सकता है। इसके आधार पर कोई भी जान सकता है कि कंप्यूटर कितना तेज है।

2. प्रेसिजन (Precision)

कंप्यूटर बिना किसी गलती के अपना काम करता है। यह वैसे ही काम करता है जैसे हम कंप्यूटर को प्रोग्राम करते हैं। हम गलत कहेंगे तो कंप्यूटर भी गलत करेगा। यह हम पर निर्भर करता है कि हम कंप्यूटर का उपयोग कैसे करते हैं।

3. भंडारण क्षमता (Storage capacity)

डेटा सेव करना। कंप्यूटर में डाटा स्टोर करने की क्षमता होती है। यह कंप्यूटर को हजारों फाइलों को स्टोर करने की अनुमति देता है। आप उन फाइलों को कभी भी देख सकते हैं। कई वर्षों तक साझा और संग्रहीत किया जा सकता है। कंप्यूटर हमारे डेटा को सालों तक स्टोर करके रखता है।

4. दक्षता (Efficiency)

अगर कोई आदमी अपनी क्षमता से अधिक काम करता है तो कुछ समय बाद वह थक जाता है और संतुलन खो देता है और गलतियाँ करने लगता है। लेकिन चूंकि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, इसलिए यह अधिक कार्यभार और कितना काम करता है, इसके बावजूद यह कोई गलती नहीं करता है। लेकिन जो आदमी इसका इस्तेमाल करता है उसे इसका सही इस्तेमाल करना चाहिए।

5. प्रामाणिकता (Authenticity)

आज की दुनिया में एक व्यक्ति पर दूसरे पर भरोसा करना बहुत मुश्किल है। कब कोई धोखा दे जाए यह कोई नहीं बता सकता। लेकिन कंप्यूटर का अपना इमोशन नहीं होता। बेईमानी नहीं। यहां आप महत्वपूर्ण फाइलों को सेव कर सकते हैं। और केवल आप ही उस फाइल को देख सकते हैं। कंप्यूटर इसमें कोई बदलाव नहीं करता है।

 6.विकास (Development)

जब कंप्यूटर का इस्तेमाल हर क्षेत्र में बखूबी किया जा रहा है। कम्प्यूटर के द्वारा व्यक्ति का कार्य बहुत तेजी से किया जा सकता है। इसकी मदद से कई सेक्टर का विकास होगा।

कंप्यूटर के नुकसान : Disadvantages Of Computer in Hindi

1. बेरोजगारी (Unemployment)

यह एक सर्वविदित तथ्य है कि कंप्यूटर का उपयोग करने से कई कार्य आसान हो जाते हैं। लेकिन जिस काम को कई लोग करते हैं, उसे एक कंप्यूटर से किया जाता है, इससे बेरोजगार बढ़ती है।

2. सूचना की चोरी (Information Theft)

कंप्यूटर एक मशीन है इसलिए इसकी अपनी भावनाएं नहीं होती हैं। तो जानकारी चोरी हो जाती है। हैकर्स कंप्यूटर में सेंध लगाते हैं और जरूरी डेटा चुरा लेते हैं। कंप्यूटर जैसी मशीनों में यह जोखिम होता है।

3. कंप्यूटर की लत (Addiction to computer)

कंप्यूटर की आदत डालना एक बहुत ही गंभीर समस्या है। कंप्यूटर की आदत का मतलब है कि व्यक्ति सामाजिक रूप से दूसरे लोगों से दूर रहता है और अपना कीमती समय बर्बाद करता है। मनुष्य कैसे कंप्यूटर के आदी हो जाते हैं। यह अच्छा नहीं है।

4. आँख जोखिम (Eye Risk)

कंप्यूटर स्क्रीन में कोई Anti-glare element नहीं है। नतीजतन, कंप्यूटर से निकलने वाली किरणें आंखों पर हानिकारक प्रभाव डाल सकती हैं। इसलिए घंटों कंप्यूटर का इस्तेमाल करने से आंखों की कई समस्याएं होती हैं।

5. स्वास्थ्य जोखिम (Health Risk)

यदि कोई व्यक्ति घंटों कंप्यूटर के सामने बैठकर काम करता है, तो ओबिसिटी बनता है । इससे हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इतना ही नहीं, कंप्यूटर ज्यादा इस्तेमाल करने से कमर दर्द और सिरदर्द आदि समस्यााएं होती है।

ये भी पढ़ें;

Tirumala Tirupati Devasthanams CALENDAR 2022

* Positive Thanksgiving : सकारात्मक धन्यवाद!

Even more from this blog
Dr. MULLA ADAM ALI

Dr. Mulla Adam Ali / डॉ. मुल्ला आदम अली

हिन्दी आलेख/ Hindi Articles

कविता कोश / Kavita Kosh

हिन्दी कहानी / Hindi Kahani

My YouTube Channel Video's