Type Here to Get Search Results !

उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के वर्ष 2021 के पुरस्कार-सम्मान घोषित, लेखिका क्रांति कनाटे को सौहार्द सम्मान

उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के वर्ष 2021 के पुरस्कार-सम्मान घोषित, लेखिका क्रांति कनाटे को सौहार्द सम्मान - 2021

दिसंबर 1976 में स्थापित उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ निरंतर हिंदी भाषा और साहित्य के विकास में लगा हुआ है। संस्था द्वारा प्रतिवर्ष साहित्य, कला, विज्ञान, लोक साहित्य, प्रवासी भारतीय साहित्य, पत्रकारिता, बाल साहित्य आदि की विधाओं पर लगभग 83 पुरस्कार दिए जाते हैं। संस्थान 'भारत भारती सम्मान' तथा 'राजर्षि पुरुषोत्तमदास टण्डन सम्मान' के लिए विशेष रुप से जानी जाती है। यह संस्थान प्रतिवर्ष प्रादेशिक भाषाओं से हिंदी में काम करने वाले किसी एक साहित्यकार को 'सौहार्द सम्मान' से विभूषित करती है। इस वर्ष गुजराती के लिए यह सम्मान हमारी वेबसाइट और यूट्यूब से परिचित लेखिका क्रांति कनाटे को दिया जा रहा है। इसके अंतर्गत उन्हें ढाई लाख की राशि, प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह लखनऊ में आयोजित एक समारोह में प्रदान किया जाएगा। इस सम्मान हेतु हमारी वेबसाइट की ओर से क्रांति कनाटे जी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

क्रांति (येवतीकर) कनाटे

 जन्म: 5 नवंबर, 1954, सनावद (म.प्र.)

शिक्षा: एम.ए. (अंग्रेजी साहित्य, विक्रम वि.वि.उज्जैन), व्याख्याता के नाते कुछ वर्ष एकाधिक शासकीय महाविद्यालयों में कार्यरत।

भाषा ज्ञान: मराठी, हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू, गुजराती।

प्रकाशन एवं पुरस्कार: हिन्दी साहित्य अकादमी, गुजरात द्वारा ‘अपनी-अपनी धूप’ (काव्य संग्रह’), ‘जेता’ (काव्य नाटक) तथा ‘एमिली डिकिंसन की कविताएँ’ (अनुवाद संग्रह) पुरस्कृत। ‘अपनी-अपनी धूप’ म.प्र. राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, भोपाल द्वारा भी पुरस्कृत। ‘पक्षी उड़ आएँगे’ (महेंद्रसिंह जाडेजा के मूल गुजराती काव्य संग्रह ‘पक्षीओ ऊडी आवशे’ का अनुवाद संग्रह), ’गुजराती काव्य संपदा’ (अनुवाद संग्रह)

हिन्दी की लगभग सभी प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में कविताएँ, समीक्षा तथा लेख प्रकाशित। कविता कोश इंटरनेट पर कविताएँ तथा अनुवाद उपलब्ध।

प्रसारण: मनोहर मीडिया, डॉ. मुल्ला आदम अली यू ट्यूब चेनल, पोएट हसित बूच चेनल पर गुजराती तथा हिन्दी साहित्य एवं साहित्यकारों की चर्चा।

सम्पादन: ‘साहित्य संवर्धन यात्रा’, ‘राष्ट्रीय अस्मिता और साहित्य’, ‘संतों का साहित्यिक अवदान’ तथा ‘गुजराती कथा वैभव’।

संकलन: ‘ऐतिहासिक उपन्यासों से समाज जाग्रति’, ‘बांग्ला साहित्य का भारतीय साहित्य पर प्रभाव’, नवलेखन की चुनौतियाँ’।

सम्मान: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा ‘सौहार्द सम्मान 2021’(गुजराती)

विशेष: पूर्व संपादक ‘साहित्य परिक्रमा’(जन॰2013-मार्च’19)। पूर्व सदस्य: हिन्दी सलाहकार समिति, रेलवे तथा इस्पात मंत्रालय। विदेश मंत्रालय के विशेष निमंत्रण पर 11 वें विश्व हिन्दी सम्मेलन, मॉरिशस में गुजरात का प्रतिनिधित्व। वर्तमान में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा हिन्दी सलाहकार समिति की नामित सदस्य। 

संपर्क: 203,टॉवर-3, साईनाथ स्क्वेयर

मदर्स स्कूल के पीछे, जलाराम चौकड़ी

वडोदरा 390021 मो. 9904236430.

ई_मेल:  krantibrd@rediffmail.com

ये भी पढ़ें;

गुजराती काव्य संपदा : एक परिचय

दिनकर : चंद्र किरणों के चितेरे - क्रांति कनाटे

Makhanlal Chaturvedi: वह पहला पत्थर मंदिर का - क्रांति कनाटे